रंजक , एक रंगीन द्रव्य होता है जिसमें उस अंत:स्तर के प्रति आकर्षण होता है जिस पर उसे लगाया जाता है। रंगाई के लिए आमतौर पर रंजको का एक जलीय घोल बनाया जाता है, और किसी तंतु पर रंग की गहराई या तेजी पाने के लिए उसमें एक रंगबंधक मिलाने की आवश्यकता भी हो सकती है।

Indigo skeletal.svg

रंजक और वर्णक दोनों ही रंगीन होते हैं, क्योंकि वे दृश्य प्रकाश की केवल कुछ तरंग दैर्ध्य को अवशोषित करते हैं। रंजक आमतौर पर पानी में घुलनशील होते हैं जबकि वर्णक अघुलनशील होते हैं। कुछ रंजकों में नमक मिलाकर एक अघुलनशील लाक्षक वर्णक प्राप्त किया जा सकता है।

प्राकृतिक और अप्राकृतिक रंजक होते है। प्राकृतिक रंजक यह पेडो की जड़, पत्ती, तने आदि से मिळते है।

सन्दर्भसंपादित करें