मुख्य मेनू खोलें

राग बागेश्री हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत का एक राग है। यह राग काफी थाट से उत्पन्न हुआ है। गाने या बजाने का समय रात का तीसरा प्रहर माना जाता है।

अनुक्रम

स्वरसंपादित करें

इस राग में गंधार (ग) और निषाद (नि) कोमल है। इस राग में पंचम (प) रिषभ (रे) वर्जित है। कुछ लोग आरोह में थोडा पंचम लगाते हैं।

आरोहसंपादित करें

नि़़॒ सा ग॒ म, ध नि॒ सां।

अवरोहसंपादित करें

सां नि॒ ध,म प ध, ग म ग॒ रे सा।

वादी और संवादीसंपादित करें

इस राग का वादी स्वर मध्यम (म) और संवादी स्वर षड्ज (सा) है।

पकड़संपादित करें

ध नि सा,म ध नि ध ग॒ म म प, ध,ग म रे सा।

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

सन्दर्भसंपादित करें

१. राग-बोध (प्रथम भाग). बा. र. देवधर.