राजकुमार बाहदुर शाह

अन्तीम नेपाल एकिकरण काल में राजकुमार बाहदुर शाह का योगदान अतुलनीय है बाहदुर शाह पृथ्वीनारायण शाह के दुसरे बेटे थे अपने भाइ राजा प्रताप सिंह शाह व भावी रानी राजेन्द्र लक्ष्मी के देहान्तके बाद यिन्होने भतिजे राजा रण बाहदुर शाह के रिजेन्ट होकर नेपाल का शासन किया था। अपने रिजेन्ट काल में राजकुमार बाहदुर शाह ने टुटा टुकडो में बंटा हुआ नेपाल को एकिकृत करनेका पिता बडामाहराज पृथ्वी नारयण शाह की अभियानको हर तरह से बढावा दिया।

शक्तीसाली पाल्पा राज्यके साथ वैवाहिक संबध जोडकर यिन्होने नेपालको लम्जुंग, तनहुं से लेकर कांगड (हल हिमान्चल प्रदेश) तक वर पुर्वमे सिक्कीम वर ग्वालपाडा तकका एकिकृत व बिशाल नेपाल दिया। राजकुमार बाहदुर शाह दरवारी षडयन्त्र में जेल पडे व उनका जेल के अन्दर हि देहान्त होगया। बाहदुर शाह के बाद पाल्पाको बिशाल नेपाल में मिलाने के इलावा बिशाल नेपाल का एकिकरण भि अन्त हि हुआ।