राजमोहन्स वाइफ बंकिम चंद्र चटर्जी की प्रथम रचना है जो 1864 में प्रकाशित हुई और आमतौर पर इसे पहला भारतीय अंग्रेजी उपन्यास माना जाता है।[1] हालाँकि यह अंग्रेजी में थी जिसमे मातंगिनी नामक महिला द्वारा पुरानी रूढ़िवादी प्रथाओं के खिलाफ आवाज उठाई, यह राजमोहन नामक व्यक्ति की पत्नी थी जैसा की पुस्तक के शीर्षक से प्रदर्शित होता है, इस महिला के जरिये बंकिम चंद्र ने अपने विचारो को व्यक्त किया तथा भारतीय समाज की बुराइयों के कटु आलोचना की। यह पुस्तक के रूप में प्रकाशित होने से पूर्व एक पत्रिका में श्रृंखलाबद्ध छपी थी। पहली बार पुस्तकाकार प्रकाशन 1935 में हुआ।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Chaudhuri, Supriya. "Beginnings: Rajmohan's Wife and the Novel in India". cambridge.org/core/ (अंग्रेज़ी में). कैंब्रिज विश्वविद्यालय प्रेस. मूल से 19 जून 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 नवम्बर 2019.