मुख्य मेनू खोलें

राजाराम भोसले द्वितीय (१७५० -१७७७) इस काल मे छत्रपति थे । राजाराम द्वितीय जो रामराजा नाम से जाने जाते है।वे शाहु के दत्तक पुत्र थे और ताराबाई के पोते थे । उनके काल मे सातारा कि शक्ती पुणे मे चली गयी ।