राजीव महर्षि भारत के नियन्त्रक एवं महालेखापरीक्षक तथा संयुक्त राष्ट्र में बॉर्ड ऑफ ऑडिटर के अध्यक्ष हैं | वे पूर्व भारत के गृह सचिव तथा भारत के वित्त सचिव रह चुके हैं।[1] वे 1978 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। वित्त सचिव मंत्रालय का वरिष्ठतम आईएएस अधिकारी होता है जो मंत्रालय के विभिन्न विभागों के काम-काज में समन्वय रखता है। इनसे पूर्व इस पद पर श्री अरविंद मायाराम कार्यरत थे जिनका स्थानांतरण अक्टूबर 2014 में पर्यटन मंत्रालय में हो गया।[2]

राजीव महर्षि
Rajiv Mehrishi taking oath as CAG of India.jpg
राजीव महर्षि भारत के नियन्त्रक एवं महालेखापरीक्षक की शपथ ग्रहण करते हुए

संयुक्त राष्ट्र में बोर्ड ऑफ ऑडिटर के अध्यक्ष
पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
25 सितम्बर 2017
पूर्वा धिकारी शशिकांत शर्मा

पदस्थ
कार्यालय ग्रहण 
25 सितम्बर 2017
पूर्वा धिकारी शशिकांत शर्मा

पद बहाल
31 अगस्त 2015 – 30 अगस्त 2017
पूर्वा धिकारी एल सी गोयल
उत्तरा धिकारी राजीव गौबा

भारत के वित्त सचिव (अर्थशास्त्र विभाग का अतिरिक्त पदभार)
पद बहाल
29 अक्टूबर 2014 – 30 अगस्त 2015
पूर्वा धिकारी अरविंद मायाराम
उत्तरा धिकारी शक्तिकांत दास

पद बहाल
21 दिसम्बर 2013 – 28 अक्टूबर 2014

भारत के रसायन सचिव
पद बहाल
4 अक्टूबर 2012 – 30 नवम्बर 2013

भारत के प्रवासी भारतीय मामले सचिव
पद बहाल
17 अप्रैल

2012 – 3 अक्टूबर 2012


जन्म 8 अगस्त 1955 (1955-08-08) (आयु 65)
जयपुर, राजस्थान, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
जीवन संगी मीरा
शैक्षिक सम्बद्धता स्ट्राथक्लायड बिजनेस स्कूल, स्ट्राथक्लायड विश्वविद्यालय
सेन्ट स्टेफन कॉलेज, दिल्ली, दिल्ली विश्वविद्यालय
सेन्ट एक्सवियर स्कूल, जयपुर
व्यवसाय आईएएस अधिकारी
राजीव महर्षि भारत के नियन्त्रक एवं महालेखापरीक्षक

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "एसीसी नियुक्ति". पत्र सूचना कार्यालय, भारत सरकार. 16 अक्टूबर 2014. मूल से 21 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 अक्टूबर 2014.
  2. "एसीसी नियुक्तियां". पत्र सूचना कार्यालय, भारत सरकार. 16 अक्टूबर 2014. मूल से 21 अक्तूबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 अक्टूबर 2014.