मुख्य मेनू खोलें

राजेन्द्र प्रथम (1012 ई. - 1044 ई.) चोल राजवंश का सबसे महान शासक था। उसने अपनी महान विजयों द्वारा चोल सम्राज्य का विस्तार कर उसे दक्षिण भारत का सर्व शक्तिशाली साम्राज्य बनाया। उसने 'गंगई कोंड' की उपाधि धारण की तथा गंगई कोंड चोलपुरम नामक नगर की स्थापना की। वहीं पर उसने चोल गंगम नामक एक विशाल सरोवर का भी निर्माण किया।

राजेन्द्र चोल प्रथम
प्रकेशरी, युद्धमल्ल, मुम्मुदि गंगैकोण्डा चोल
Rajendra Chola.JPG
शासन 1014–1044 CE[1]
पूर्वाधिकारी राजराजा चोल
उत्तराधिकारी राजाधिराज चोल प्रथम
जीवन संगी Tribhuvana Mahadeviyar
Pancavan Madeviyar
Viramadevi
संतान Rajadhiraja Chola I
Rajendra Chola II
Virarajendra Chola
Arulmolinangayar
Ammangadevi
राजवंश चोल राजवंश
पिता राजराजा चोल
धर्म हिन्दू, शैव
चोल साम्राज्य

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Sen, Sailendra (2013). A Textbook of Medieval Indian History. Primus Books. पपृ॰ 46–49. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-9-38060-734-4.