राज्य के लिए औचित्य का संदर्भ राज्य या सरकार के लिए वैध प्राधिकार के स्रोत से हैं। आम तौर पर, ऐसा औचित्य यह समझाता है कि राज्य का अस्तित्व क्यों होना चाहिए, और कुछ हद तक सरकार की भूमिका को निर्धारित करता है - एक वैध राज्य क्या करने या नहीं करने के काबिल होना चाहिए।

ऐसा कोई एक, सार्वभौमिक रूप से स्वीकृत राज्य का औचित्य नहीं है। वास्तव में, अराजकतावादी मानते हैं कि राज्य के लिए कोई औचित्य हैं ही नहीं, और इसके बिना मानव समाज बेहतर होगा। हालांकि, अधिकांश राजनीतिक विचारधाराओं के अपने स्वयं के औचित्य हैं, और इस प्रकार उनकी अपनी दृष्टि हैं कि क्या एक वैध राज्य का गठन करता हैं।

सन्दर्भसंपादित करें