राधिका चौधरी एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री और निर्देशक हैं, जो हिन्दी, तमिल और तेलुगू भाषा में बनी फिल्मों में काम कर चुकी हैं। ये 2010 में फिल्म निर्देशक के रूप में अपना करियर शुरू किया और लास वेगास फिल्म उत्सव में पुरस्कार भी प्राप्त करने में सफल रही।

राधिका चौधरी
जन्म राधिका चौधरी
व्यवसाय अभिनेत्री, निर्देशक
सक्रिय वर्ष 1999–2011

करियरसंपादित करें

1999-2004: शुरुआतसंपादित करें

राधिका ने पुणे विश्वविद्यालय में अपनी शिक्षा ली और वहाँ मास कम्युनिकेशन में मास्टर की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद ये अलग अलग भाषाओं में बनी 30 भारतीय फिल्मों में नजर आईं, जिसमें से दो बहुत बड़ी फिल्में, तेरे नाम और खुशी थी। इन्हें इनके कई किरदारों और गानों के कारण काफी सकारात्मक समीक्षा प्राप्त हुई।

इनकी पहली फिल्म 1999 में प्रदर्शित हुई संबइयाह थी, जो तेलुगू भाषा में बनी थी। इसी साल इन्होंने तमिल भाषा में बनी फिल्म में काम कर तमिल फिल्म उद्योग में भी कदम रखा। इसके बाद ये कन्नुपदा पोगुथाइया, टाइम नाम की तमिल भाषा में बनी फिल्मों में भाग लिया। वर्ष 2000 में इन्होंने तमिल भाषा में बनी सिम्मासनम, क्रोधम 2 और प्रियमानवाले में काम किया।

2010-2011: निर्देशनसंपादित करें

2004 के बाद कई सालों के बाद, 2010 में ये फिल्मों में वापस कदम रखा, पर इस बार इन्होंने निर्देशक के रूप में अपनी शुरुआत की। इन्हें लास वेगास फिल्म समारोह में अपने लघु फिल्म ऑरेंज ब्लोसम्स के कारण सर्वश्रेष्ठ लघु फिल्म हेतु सिल्वर एस पुरस्कार मिला।[1] ये लघु फिल्म लॉस एंजिल्स में शूट किया गया था, जिसके लिए कुल 4 दिन का वक्त लगा था। इससे कुल 17 मिनट की एक शॉर्ट फिल्म बनाई गई। इस फिल्म में कहानी एक ऐसे माँ की है, जो अपने पति से अलग हो कर अपने और अपने परिवार के बारे में बहुत सारी जानकारी अंजान लोगों को दे रही है। इस फिल्म में मुख्य किरदार के रूप में उषा कोकोटे हैं, इनके अलावा जेफ डौकेट और जॉन पॉल औवरिएर भी इस शॉर्ट फिल्म में अभिनय कर रहे थे।[2]

सन्दर्भसंपादित करें

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 31 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 मार्च 2019.
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 7 जुलाई 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 31 मार्च 2019.

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें