रानी कर्णावती या कर्मवती (मृत्यु 8 मार्च 1535), बूूंदी के शासक हाड़ा नरबध्दु की पुत्री थीं | इनका विवाह मेेेवाड़ के राणा सांगा केे साथ सम्पन्न हुआ था |

अल्प काल के लिये बूँदी की शासिका भी रहीं। वे राणा विक्रमादित्य और राणा उदय सिंह की माँ थीं और महाराणा प्रताप की दादी थीं।

इनके द्वारा मेवाड़ का दूसरा जौहर 8 मार्च, 1535 में कर लिया गया |

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें