मुख्य मेनू खोलें
Statue of Rudaki.jpg

अब्दुल्ला जफ़र इब्न मुहम्म्द रुदाकी (859-941) फारसी के सबसे प्रमुख कवियों में से एक हैं। इन्हें आधुनिक फ़ारसी भाषा के प्रवर्तक कवि के रूप में भी जाना जाता है। उस समय जब फ़ारस (ईरान) पर अरबों का अधिकार हो गया था और साहित्यिक जगत में अरबी का प्रभुत्व बढ़ गया था, रुदाकी ने फ़ारसी भाषा के नवोदय करवाया था। उन्होंने अरबी लिपि के नए संशोधित संस्करण में लिखना चालू किया जो बाद में फ़ारसी भाषा की लिपि बन गई।

रुदाकी की जन्म आधुनिक ताजिकिस्तान में माना जाता था जो उस समय फ़ारसी सांस्कृतिक क्षेत्र के अन्दर आता था। कहा जाता है कि वे जन्मजात अन्धे थे पर उनके द्वारा रंगों का इतना संजीदा चित्रण किया है कि यह विश्वास करना मुश्किल लगता है। यह जनश्रुति हिन्दी कवि सूरदास की कहानी जैसी लगती है।