नेपोलियन के मिस्र के अभियान में १७९९ में रोज़ेटा शिला मिली जिसके विश्लेषण से मिस्री चित्रलिपि को दुबारा पढना सम्भव हुआ।