ली लिन्यिंग

चीन का राजशाही हिजड़ा

ली लिन्यिंग (सरलीकृत चीनी: 李连英; परंपरागत चीनी: 李連英; पिनयिन: Lǐ Liányīng; नवम्बर 12, 1848 - मार्च 4, 1911) चिंग राजवंश का एक राजशाही हिजड़ा था जो महारानी डोवागेर चिक्सी के शासन में सत्ता मुख्य केन्द्र बना। महारानी 1869 से 1908 तक सत्ता की मुख्य पात्र बनी हुई थी।

ली लिन्यिंग
李連英
Li Lianying.jpg
ली लिन्यिंग

सर्वोच्च राजशाही हिजड़ा
कार्यकाल
1869-1908
पूर्वा धिकारी आन देहाई

जन्म 12 नवम्बर 1848
मृत्यु 4 मार्च 1911(1911-03-04) (उम्र 62)

ली सर्वोच्च हिजड़े (总管太监) के तौर पर कार्य सम्भाले हुई था। उसे 1908 में पद से हटाया था। ली राज दरबार में प्रमुख बना रहा। वह अन्य हिजड़ों की हरकतों पर नज़र रखने से लेकर महारानी से मिलने वालों को आज्ञा तक के मामलों में निर्णायक बना हुआ था। इन मामलों में काफ़ी खूस जुड़ी होती है और ली ने मौके का खूब फ़ायदा उठाया।

महाराजा गुआंग्शू को 1908 में ज़हर देकर मारा गया था। तब से इतिहासकार ली को महाराजा की हत्या का सबसे संदिग्ध व्यक्ति मानते हैं। [1]

मीडिया में छविसंपादित करें

1991 की फ़िल्म "ली लिन्यिंग: दि इम्पीरियल इयूनक" जिसे तियान ज़ुआंगज़ुआंग ने निर्देशित किया, ली लिन्यिंग की झलक प्रस्तुत करती है। हाँग-काँग टीवीबी 2012 का नाटक "दी कॉन्फ़िडान्ट" भी ली लिन्यिंग के जीवन पर आधारित है।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. Mu, Eric. Reformist Emperor Guangxu was Poisoned, Study Confirms" Archived 9 मई 2015 at the वेबैक मशीन.. Danwei. नवम्बर 3, 2008.