वटेश्वर (जन्म 880), दसवीं शताब्दी के भारतीय (काश्मीरी) गणितज्ञ थे[1][2] जिन्होने 24 वर्ष की उम्र में वटेश्वर-सिद्धान्त नामक ग्रन्थ की रचना की और कई त्रिकोणमितीय सर्वसमिकाएँ प्रस्तुत कीं। [3] वटेश्वर-सिद्धान्त, खगोल शास्त्र और व्यावहारिक गणित से सम्बन्धित ग्रन्थ है जिसकी रचना सन् 904 में हुई थी।

सन्दर्भसंपादित करें

  1. R.N. Rai, Karanasara of Vatesvara, भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी (1970), vol. 6, n. I, p. 34 Archived 9 जून 2015 at the वेबैक मशीन.
  2. Vaṭeśvara, Vaṭeśvara-siddhānta and Gola of Vaṭeśvara: English translation and commentary, National Commission for the Compilation of History of Sciences in India (1985), p. xxvii
  3. Kim Plofker, Mathematics in India, प्रिंसटन विश्वविद्यालय मुद्रणालय (2009), p. 326