वरियाम सिंह संधू

भारतीय अकादमिक

वरियाम सिंह संधू (पंजाबी: ਵਰਿਆਮ ਸਿੰਘ ਸੰਧੂ, जन्म: 10 सितंबर 1945) पंजाबी कहानीकार हैं। 2000 में, उनको अपने कहानी संग्रह चौथी दिशा के लिए साहित्य अकादमी इनाम मिला।[1] वे मूल रूप से पंजाबी लेखक है,[2] लेकिन उनकी रचनाओं का हिन्दी, बंगाली, उर्दू और अंग्रेज़ी में अनुवाद हो चुका है।[3]

वरियाम सिंह संधू
जन्म10 सितम्बर 1945 (1945-09-10) (आयु 78)
पेशालेखक
भाषापंजाबी
काल1967-वर्तमान
विधाकहानी
आंदोलनसमाजवाद
उल्लेखनीय कामsचौथी दिशा
  1. "Sahitya Akademi awards presented". The Hindu. February 21, 2001. मूल से 5 नवंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि June 27, 2012.
  2. Chahryar Adle (2005). Towards the Contemporary Period: From the Mid-nineteenth to the End of the Twentieth Century. UNESCO. पृ॰ 894. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9231039857. नामालूम प्राचल |coauthors= की उपेक्षा की गयी (|author= सुझावित है) (मदद)
  3. श्रेष्ठ कहानियां / वरियाम सिंह संधू