पाकिस्तान के कराची में रविवार को फुटपाथ पर वस्त्रों की बिक्री

वस्त्र या कपड़ा एक मानव-निर्मित चीज है जो प्राकृतिक या कृत्रिम तंतुओं के नेटवर्क से निर्मित होती है। इन तंतुओं को सूत या धागा कहते हैं। धागे का निर्माण कच्चे ऊन, कपास (रूई) या किसी अन्य पदार्थ को करघे की सहायता से ऐंठकर किया जाता है। एक फ्लेक्सिबल सामग्री है जिसमें कृत्रिम फायबर धागे का समावेश रहता है। लंबे धागे का उत्पादन करने के लिए ऊन, फ्लेक्स, सूती अथवा अन्य कच्चे तंतु कपाट्या से तैयार किए जाते हैं। कपडे बुनना, क्रॉसिंग, गाठना, बुनाई, टॅटिंग, फेलिंग, ब्रेडिंग करके कपडा तैयार किया जाता है।


कराची, पाकिस्तानचे वस्त्रोद्योग फॅब्रिक, कापड आणि साहित्य टेक्सटाईल समसामयिक व्यवसायात (जसे टेलरिंग आणि ड्रेसमेकिंग) वस्त्रोद्योग समानार्थी म्हणून वापरले जातात. फॅब्रिक हे विणकाम, बुद्धिमत्ता, प्रसार, क्रॉसिंग किंवा बंधनाद्वारे तयार केलेली सामग्री आहे जी उत्पादनासाठी वापरली जाऊ शकते.

उपयोगसंपादित करें

  • पहनने के कपड़े
  • झोला (बैग)
  • टोकरी
  • कार्पेट
  • परदा
  • तौलिया
  • मेजपोस
  • चादर
  • झण्डा बनाने
  • छन्ना (फिल्टर)
  • तंबू
  • जाली (जैसे मच्छरदानी)
  • रूमाल
  • उडनछतरी
  • गुब्बारे
  • किसी द्रव (जैसे पानी) को लाने-ले जाने के लिये 'पाइप' बनाने हेतु

आदि

छपाई (प्रिन्ट)संपादित करें

 
प्रिन्टयुक्त वस्त्र

वस्त्रों पर कोई आवर्ती पैटर्न छापने को प्रिन्ट करना कहते हैं। ऐतिहासिक रूप से वस्त्रों पर छपाई दो हजार ईसा पूर्व से हो रही है। छपाई का आरम्भ भारत से हुआ।

टिशू (उत्तक) एवं उनकी विशेषताएँसंपादित करें

नाम विशेषताएँ उपयोग
पापलीन घना, सूती कपड़ा पहनावा
वेल्वेट पहनावा, पर्नीचर
डेनिम जीन

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

बाहरी कड़ियाँसंपादित करें