वार्ता:अर्थ

विषय जोड़ें
इस पृष्ठ पर कोई चर्चा नहीं है।

आँख के अंधे को दुनिया नहीं दिखती, काम के अंधे को विवेक नहीं दिखता, मद के अंधे को अपने से श्रेष्ठ नहीं दिखता और स्वार्थी को कहीं भी दोष नहीं दिखता।�

पृष्ठ "अर्थ" पर वापस जाएँ।