विचार स्वातंत्र्य

किसी व्यक्ति या समाज के विचार स्वातंत्र्य या विचारों की स्वतंत्रता (Freedom of thought) का अर्थ उस व्यक्ति का इस बात के लिये स्वतंत्र होना है कि वह दूसरों से प्रभावित हुए बिना अपना स्वयं का दृष्टिकोण या विचार रख सके।

"विचार की स्वतंत्रता के बिना ज्ञान, और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के बिना सार्वजनिक स्वतंत्रता जैसी कोई चीज नहीं हो सकती", बेंजामिन फ्रैंकलिन, 1722