जो भाषा अन्य देश में बोली/समझी जाती है उसे विदेशी भाषा (foreign language) कहते हैं। दूसरे शब्दों में यह भी कह सकते हैं कि जो भाषा स्वदेश में नहीं बोली जाती वह विदेशी भाषा है, जैसे रूसी भारत के लिये एक विदेशी भाषा है।

विदेशी भाषा सीखने के लाभसंपादित करें

  • विदेशों में बसने के का रास्ते खुलते हैं।
  • करियर के लिए अच्छा है।
  • अन्य भाषाओं को सुनने, सीखने और बोलने के साथ-साथ, एक व्यक्ति अपनी खुद की भाषा की ओर भी एक नया दृष्टिकोण विकसित करता हैं।
  • देशों के बीच भी सांस्कृतिक मतभेदों को कम किया जा सकता है।
  • विदेशी भाषा वालों का मस्तिष्क ज्यादा कुशल लगता हैऔर अल्जाइमर्स या ऐसे कई दिमागी रोगोँ का खतरा भी कम उन्हें कम रहता है।[1]

इन्हें भी देखेंसंपादित करें

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 7 दिसंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 जून 2020.