"ऐन्टिमोनी" के अवतरणों में अंतर

3,559 बैट्स् जोड़े गए ,  10 वर्ष पहले
 
==ऐंटीमनी के यौगिक==
ऐंटीमनी के +3 संयोगी Sb (III) तथा +5 संयोजी Sb () यौगिक ज्ञात है.
 
ऐंटीमनी (III) आक्साइड (Sb2O3) श्वेत चूर्ण जो जल में विलेय है. यह उभयधर्मी है.
टार्टर एमेटिक बनाने तथा औषधि के रूप में प्रयुक्त.
 
ऐंटीमनी () आक्साइड (Sb2O5)-पीत ठोस जो जल में अविलेय होता है. इसे ऐंटीमनी
पेंटाक्लोराइड के जल अपघटन द्वारा या ऐंटीमनी को नाइट्रिक अम्ल के साथ गर्मकरके
प्राप्त करते हैं. यह उत्तम आक्सीकारक है और पोटैसियम आयोडाइड के अम्लीय विलयन
में से आयोडीन मुक्त करता है.
 
SbCl5+2KI - -> SbCl3 +2KHCl + I
 
ऐंटीमनी (III) क्लोराइड (SbCl3)- ऐंटीमनी ट्राइक्लोराइड -श्वेत जलग्राही ठोस जो
जल द्वारा अपघटित होकर आक्सीक्लोराइड बनाता है-
 
SbCl3+ H2O3 --> SbOCl + 2HHCl
 
ऐंटीमनी () क्लोराइड (SbCl5)- एंटीमनी पेंटाक्लोराइड. रंगहीन द्रव्य जिसे संलित
ट्राइक्लोराइड के साथ क्लोरीन की अभिक्रिया कराकर बनाया जाता है. यह प्रबल
क्लोरीनीकारक है.
 
ऐंटीमनी पोटैसियम टार्टरेट या टार्टर एमेटिक या पोटैसियम ऐंटीमोनिल टार्टरेट
(2 KSbO C4H4O6 H2O) -श्वेत विषैला चूर्ण जिसका उपयोग एमेटिक के रूप में तथा
रंगबन्धक के रूप में होता है.
 
ऐंटीमनी (III) सल्फाइड (Sb2S3) ऐंटीमनी ट्राइसल्फाइड, या स्टिब्नाइट- काला या
लाल अविलेय क्रिस्टलीय ठोस, जिसका उपयोग दियासलाई बनाने में तथा आतिशवाजी में
होता है.
 
ऐंटीमनी () सल्फाइड (Sb2S5), ऐंटीमनी पेंटासल्फाइड- पीला अविलेय चूर्ण जिसका
उपयोग रंजक के रूप में तथा रबर के बल्वनीकरण में किया जाता है.
 
ऐंटीमनी सल्फेट Sb2(SO4)- श्वेत क्रिस्टलीय अविलेय ठोस जो विस्फोटक के रूप में
प्रयुक्त होता है.
 
ऐंटीमनी हाइड्राइड या स्टिबीन (SbH3)- अस्थायी रंगहीन गैस जो सरलता से अपघटित
होकर ऐंटीमनी उत्पन्न करती है.
 
==चित्रदीर्घा==