"कर्पूरमंजरी" के अवतरणों में अंतर

41 बैट्स् नीकाले गए ,  8 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
{{वार्ता शीर्षक}}'''कर्पूरमंजरी''' [[संस्कृत]] के प्रसिद्ध नाटककार एवं काव्यमीमांसक [[राजशेखर]] द्वारा रचित [[प्राकृत]] का [[नाटक]] (सट्टक) है। प्राकृत भाषा की विशुद्ध साहित्यिक रचनाओं में इस कृति का विशिष्ट स्थान है।
 
==सट्टक==
5,01,128

सम्पादन