"कात्यायन (वररुचि)" के अवतरणों में अंतर

41 बैट्स् नीकाले गए ,  10 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
{{वार्ता शीर्षक}}वररुचि '''कात्यायन''', [[पाणिनि|पाणिनीय]] सूत्रों के प्रसिद्ध वार्तिककार हैं। वे नौ [[शुल्ब सूत्र|शुल्ब सूत्रों]] में से एक के रचयिता भी हैं ।
 
पुरुषोत्तमदेव ने अपने त्रिकांडशेष अभिधानकोश में कात्यायन के ये नाम लिखे हैं - कात्य, पुनर्वसु, मेधाजित् और वररुचि। "कात्य" नाम गोत्रप्रत्यांत है, महाभाष्य में उसका उल्लेख है। पुनर्वसु नाम नक्षत्र संबंधी है, "भाषावृत्ति" में पुनर्वसु को वररुचि का पर्याय कहा गया है। मेधाजित् का कहीं अन्यत्र उल्लेख नहीं मिलता। इसके अतिरिक्त, [[कथासरित्सागर]] और बृहत्कथामंजरी में कात्यायन वररुचि का एक नाम "श्रुतधर" भी आया है। हेमचंद्र एवं मेदिनी कोशों में भी कात्यायन के "वररुचि" नाम का उल्लेख है।
5,01,128

सम्पादन