"बर्बर भाषाएँ" के अवतरणों में अंतर

1,857 बैट्स् जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
 
==भाषा परिवार और शाखाएँ==
भाषावैज्ञानिक नज़रिए से इन्हें अफ़्रो-एशियाई भाषा परिवार का सदस्य माना जाता है। बर्बर भाषाओं के छह प्रमुख शाखाएँ हैं - ताशेलहित बर्बर, कबाइली बर्बर​, मध्य तैमैज़िग़्त बर्बर​, तरिफ़ित बर्बर, शाविया बर्बर और तुआरग। किसी एक शाखा की बर्बर उपभाषा बोलने वाले को किसी अन्य शाखा की बोली पूरी तरह समझ नहीं आती क्योंकी इन शाखाओं में शब्दों और [[लहजा (भाषाविज्ञान)|लहजे]] का आपसी फ़र्क़ हो गया है।
*'''शिल्हा''' या '''ताशेलहित''' - इसे सब से अधिक [[एटलस पर्वतों]] के ऊँचे इलाकों में बोला जाता है और इसे बोलने वालों की संख्या क़रीब 80 लाख है
*'''कबाइली''' - इसे उत्तरपश्चिमी [[अल्जीरिया]] के कबाइली लोग बोलते हैं और इसके मातृभाषियों की संख्या 50 लाख से 70 लाख के बीच अनुमानित की जाती है
*'''मध्य तैमैज़िग़्त बर्बर''' - इसे मध्य [[मोरक्को]] में बोला जाता है और इसके मातृभाषियों की संख्या 30 लाख से 50 लाख के बीच अनुमानित की जाती है
*'''तरीफ़ित''' या '''रीफ़''' - इसे उत्तरी [[मोरक्को]] के "रीफ़" नाम के पहाड़ी क्षेत्र में बोला जाता है और इसके मातृभाषियों की संख्या 40 लाख अनुमानित की जाती है
*'''शाविया''' - इसे पूर्वी अल्जीरिया के शाविया लोग बोलते हैं और इसके मातृभाषियों की संख्या 20 लाख अनुमानित की जाती है
*'''तुआरग''' - इसे [[माली]], [[नाइजर]], अल्जीरिया, [[लीबिया]], [[बुर्किना फ़ासो]] और [[चाड]] के तुआराग लोग बोलते हैं और इसके मातृभाषियों की संख्या 12 लाख अनुमानित की जाती है
किसी एक शाखा की बर्बर उपभाषा बोलने वाले को किसी अन्य शाखा की बोली पूरी तरह समझ नहीं आती क्योंकी इन शाखाओं में शब्दों और [[लहजा (भाषाविज्ञान)|लहजे]] का आपसी फ़र्क़ हो गया है।
 
==लिपि==