"सुबिमल बसाक" के अवतरणों में अंतर

398 बैट्स् जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
[[चित्र:सुबिमल बसाक.jpg|thumb|right|200px|सुबिमल बसाक नेपाली टोपि पहने हुये]]
सुबिमल बसाक ( १५ दिसम्बर १९३९ ) ( সুবিমল বসাক )[[बांग्ला]] साहित्य के प्रमुख उपन्यासकार है। भुखि पीढी आन्दोलन शुरु क्ररनेवाले साहित्यिकों मे उनका प्रधान योगदान रहा है। उनहोने कहानि लिखने के एक नये भाषा के जन्म दिये जो बिहार के रहनेवाले बांग्लाभाषी बोला करते हैं। सुबिमल बसाकने हिन्दी से बहुत सारे उपन्यास अनुवाद किये और २००८ साल में उन्हे [[साहित्य अकादमी]] पुरस्कार से सन्मानित किया गया।
==भुखी पीढी सृजनकर्मों का कापिराइट==
भुखी पीढी आंदोलनकारियों के सृजनकर्मों का कोइ कापिराइट नहीं होता है। वे यह उपनिवेशवादी अवधारणाकों नहीं स्वीकारते।
==कृतियां==
[[Image:Hungry Generation.jpg|thumb|left|200px| भुखी पीढी आंदोलनके मैगजिन कवर]]
118

सम्पादन