"मुक्तक" के अवतरणों में अंतर

3 बैट्स् जोड़े गए ,  12 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
 
कभी तुम सुन नही पायी कभी मै कह नही पाया
 
 
 
 
इसको [[रुबाई]] नाम से भी जानते हैं जिसका मूल [[अरबी]] है ।
8,287

सम्पादन