"राजगुरु" के अवतरणों में अंतर

170 बैट्स् नीकाले गए ,  8 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
[[चित्र:Rajguru456.jpg|thumb|right|200px|अमर शहीद '''शिवराम हरि राजगुरु''']]
 
'''शिवराम हरि राजगुरु''' ([[जन्ममराठी]]:१९०८-[[मृत्यु]]:१९३१, [[अंग्रेजी]]:शिवराम Shivaramहरी Rajguruराजगुरू, [[गुजरातीजन्म]]: રાજગુરુ, १९०८-[[मलयालममृत्यु]]: ശിവറാം രാജ്‌ഗുരു, [[मराठी]]: शिवराम हरी राजगुरू१९३१) [[भारतीय स्वतंत्रता संग्राम]] के एक प्रमुख क्रान्तिकारी थे । इन्हें [[भगत सिंह]] और [[सुखदेव]] के साथ २३ मार्च १९३१ को [[फाँसी]] पर लटका दिया गया था । भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के [[इतिहास]] में राजगुरु की शहादत एक महत्वपूर्ण घटना थी ।
 
'''शिवराम हरि राजगुरु''' का जन्म भाद्रपद के कृष्णपक्ष की त्रयोदशी सम्वत् १९६५ (विक्रमी) तदनुसार सन् १९०८ में [[पुणे]] [[जिला]] के खेडा [[गाँव]] में हुआ था । ६ वर्ष की आयु में [[पिता]] का निधन हो जाने से बहुत छोटी उम्र में ही ये [[वाराणसी]] विद्याध्ययन करने एवं [[संस्कृत]] सीखने आ गये थे । इन्होंने [[हिन्दू]] धर्म-ग्रंन्थों तथा [[वेदो]] का अध्ययन तो किया ही '''लघु सिद्धान्त कौमुदी''' जैसा क्लिष्ट ग्रन्थ बहुत कम आयु में कण्ठस्थ कर लिया था। इन्हें कसरत (व्यायाम) का बेहद शौक था और छत्रपति [[शिवाजी]] की छापामार युद्ध-शैली के बडे प्रशंसक थे ।
14

सम्पादन