"कोशिका" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् जोड़े गए ,  8 वर्ष पहले
छो
सम्पादन सारांश रहित
छो (r2.6.3) (Robot: Adding sn:Dowo)
छो
 
कुछ खास भिन्नताओं को छोड़ सभी प्रकार की कोशिकाओं, पादप एवं जन्तु कोशिका की संरचना लगभग एक जैसी होती है। ये सजीव और निर्जीव दोनों तरह की इकाइयों से मिलकर बनी होती हैं। एक सामान्य कोशिका या प्रारूपिक कोशिका के मुख्य तीन भाग हैं, कोशिकावरण, कोशिका द्रव्य एवं केन्द्रक। कोशिकावरण कोशिका का सबसे बाहर का आवरण या घेरा है। पादप कोशिका में [[कोशिका भित्ति]] और [[कोशिका झिल्ली]] मिलकर कोशिकावरण का निर्माण करते हैं। जन्तु कोशिका में कोशिका भित्ति नहीं पाई जाती अतः कोशिका झिल्ली ही सबसे बाहरी आवरण है। कोशिका झिल्ली एवं केन्द्रक के बीच के भाग को कोशिका द्रव्य कहा जाता है, इसमें विभिन्न कोशिकांग होते हैं। केन्द्रक कोशिका के अन्दर पाये जाने वाली एक गोल एवं सघन रचना है। केन्द्रक को कोशिका का [[मस्तिष्क]] कहा जाता है। जिस प्रकार शरीर के सारे क्रियायों का नियंत्रण मस्तिष्क करता है ठीक उसी प्रकार कोशिका के सारे कार्यों का नियंत्रण केन्द्रक द्वारा होता है।
== संदर्भ ==
{{reflist}}
 
कोशिका -
कोशा, जीवधारियों की संरचना एवं जैविक-क्रियाओं की एक इकाई है जो अवकलीय पारगम्य कला से घिरी होती है और जिसमें प्राय: स्वत: जनन की सामर्थ्य होती है। यह विभिन्न पदार्थों का वह छोटे-से-छोटा संगठित रुप है जिसमें वे सभी क्रियाएँ होती हैं जिन्हें सामूहिक रूप से हम जीवन कहतें हैं।
राबर्ट हुक ने 1665 में बोतल की कार्क की एक पतली परत के अध्ययन के आधार पर मधुमक्खी के छत्ते जैसे कोष्ठ देखे और इन्हें कोशा नाम दिया। यह तथ्य उनकी पुस्तक माइक्रोग्राफिया में छपा। राबर्ट हुक ने कोशा-भित्तियों के आधार पर कोशा शब्द प्रयोग किया। 1674 लुइवेनहाक ने जीवित कोशा का सर्वप्रथम अध्ययन किया। जबकि तदरोचित नामक वैज्ञानिक ने 1824 में कोशावाद का विचार प्रस्तुत किया, परन्तु इसका श्रेय वनवस्पति-विज्ञान-शास्त्री श्लाइडेन और जन्तु-विज्ञान-शास्त्री श्वान को दिया जाता है जिन्होंने ठीक प्रकार से कोशावाद को (1839 में) प्रस्तुत किया और बतलाया कि कोशाएँ पौधों तथा जन्तुओं की रचनात्मक इकाई हैं।
 
== संदर्भ ==
{{reflist}}
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
24,305

सम्पादन