"गीतरामायणम्" के अवतरणों में अंतर

168 बैट्स् जोड़े गए ,  8 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
}}
 
'''''गीतरामायणम्''''' ([[2011२०११]]), वस्तुतः ''गीतों में रामायण'', गीतकाव्य शैली की एक 2009२००९ और 2010 के२०१० वर्षों में [[जगद्गुरु रामभद्राचार्य]] ([[1950१९५०]]-) द्वारा रचित गीतकाव्य शैली की एक संस्कृत महाकाव्य है। इसमें संस्कृत के 1008१००८ गीत हैं जो की सात कांडों में विभाजित हैं, और- हरप्रत्येक कांड एक अथवा दोअधिक सर्गसर्गों में उप विभाजित है। कुल मिलाकेमिलाकर 28काव्य में २८ सर्ग हैहैं, और हर सर्ग में 36३६-३६ गीत है।हैं। इस महाकाव्य के गीत भारतीय लोक संगीत और भारतीय शास्त्रीय संगीत के विभिन्न गीतों की ढाल, लय, धुनोंधुन औरअथवा [[राग]] पर आधारित है। हर गीत रामायण के एक अथवा अधिकएकाधिक पात्र या कवि द्वारा गाया गया है। गीत एकालाप, संवाद और बहुलापसंवादों के माध्यम से अग्रसरणक्रमानुसार करतेरामायण हुएकी रामायणकथा सुनाते है।हैं। गीतों के बीच में कुछ संस्कृत छंद हैं, जो कथा को आगे ले जाते है।
 
कविता की एक प्रतिलिपि, कवि द्वारा हिन्दी टिप्पणीटीका के साथ, [[जगद्गुरु रामभद्राचार्य विकलांग विश्वविद्यालय]], [[चित्रकूट]], [[उत्तर प्रदेश]] द्वारा प्रकाशित की गई थी। पुस्तक जनवरी 14१४, 2011२०११ के मकर संक्रांति दिन को संस्कृत कवि [[अभिराज राजेंद्र मिश्रा]] द्वारा प्रकाशित हुई थी।<ref name="stps-gr">{{cite journal | first=सुशील | last=शर्मा | title=गीतरामायणप्रशस्तिः | trans_title=गीतरामायण की प्रशंसा | volume=14 | issue=9 | journal=श्रीतुलसीपीठ सौरभ | publisher=श्री तुलसी पीठ सेवा न्यास | language=हिन्दी | place=गाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश, भारत | date=फ़रवरी 2011 | page=14}}</ref><ref>रामभद्राचार्य 2011, प्र. 96.</ref>
 
==सन्दर्भ==
147

सम्पादन