"होला मोहल्ला" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् जोड़े गए ,  12 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
सिक्खों के पवित्र धर्मस्थान श्री अनन्दपुर साहिब मे होली के अगले दिन से लगने वाले मेले को होला मोहल्ला कहते है। सिखों के लिये यह धर्मस्थान बहुत ही महत्वपूर्ण है।कहतेहै। कहते है गुरु गोबिन्द सिंह(सिक्खों के दसवें गुरु) ने स्वयं इस मेले की शुरुआत की थी।तीनथी। तीन दिन तक चलने वाले इस मेले में सिख शौर्यता के हथियारों का प्रदर्शन और वीरत के करतब दिखाए जाते हैं। इस दिन यहाँ पर अनन्दपुर साहिब की सजावट की जाती है और विशाल लंगर का आयोजन किया जाता है।<ref>{{cite web |url=http://www.jitu.info/merapanna/?p=503?ref=BenimShopum.com|title= होली के रूप अनेक : भाग दो
|accessmonthday=[[4 मार्च]]|accessyear=[[2008]]|format=|publisher= मेरा पन्ना|language=}}</ref>
==संदर्भ==
28,109

सम्पादन