"वसंत" के अवतरणों में अंतर

23 बैट्स् जोड़े गए ,  13 वर्ष पहले
 
   '''ग.'''    {{Note_label|गीता|ग|none}}
प्रह्लादश्चास्मि दैत्यानां कालः कलयतामहम्।<br>
मृगाणां च मृगेन्द्रोअहं वैनतेयश्च पक्षिणाम्।।पक्षिणाम्।।१०.३०।।
28,109

सम्पादन