मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

2,995 बैट्स् जोड़े गए ,  7 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
[[संकर एकीकृत परिपथ]] भी लघु आकार के एकीकृत परिपथ होते हैं किन्तु वे अलग-अलग अवयवों को एक छोटे बोर्ड पर जोड़कर एवं एपॉक्सी आदि में जड़कर (इम्बेड करके) बनाये जाते हैं। अतः ये ''मोनोलिथिक आई सी'' से भिन्न हैं।
 
==इतिहास==
=== कुछ प्रसिद्ध ''एप'' (ICs) ===
सन् १९४७ में [[ट्रांजिस्टर]] के आविष्कार के बाद एकीकृत परिपथ के के विकास का रास्ता साफ हो गया था। सन् १९५८-५९ में दो व्यक्तियों ने लगभग एक ही तरह की आई सी लगभग एक ही समय विकसित की। वे अलग-अलग काम कर रहे थे और एक-दूसरे के काम से अनभिज्ञ थे। ये व्यक्ति थे - टेक्सास इंस्ट्रूमेन्ट्स में कार्यरत [[जैक किल्बी]] (Jack Kilby), और फेयरचाइल्ड सेमीकंडक्टर कारपोरेशन के सह-संस्थापक रॉबर्ट नॉयस (Robert Noyce) । दोनो ही विद्युत इंजीनियर थे और दोनो ही इस बात का हल निकालने में जुटे हे थे कि अनेकानेक संख्याओं वाले परिपथों को कैसे विश्वसनीय रूप से निर्मित किया जाय और उनका आकार कैसे छोटा किया जाय। आज हम कह सकते हैं कि यदि ट्रांसिस्टर का आविष्कार न होता तो एकीकृत परिपथ न होता; और एकीकृत परिपथ न होता तो [[कम्प्यूटर]] और अन्य एलेक्ट्रॉनिक उपकरण न होते जिनका परिपथ करोड़ों-अरबों अवयवों से बना होता है।
 
==लाभ==
एकीकृत परिपथ के विकास से निम्नलिखित लाभ होते हैं-
* लाखों, करोड़ों या अरबों अवयवों वाले परिपथ भी विश्वसनीय रूप से काम करते हैं।
* इतने सारे अवयवों (components) की असेम्बली में लगने वाला समय अब नहीं लगता।
* परिपथ का आकार बहुत छोटा हो जाता है जिससे छोटे आकार के एलेक्ट्रॉनिक चीजें बनायी जा सकतीं हैं।
* बड़े परिपथ इस प्रकार डिजाइन किये जा सकते हैं कि वे कम से कम शक्ति (पॉवर) से काम कर सकें।
 
=== कुछ प्रसिद्ध ''एप''एकीकृत (ICs)परिपथ ===
 
* 555 टाइमर आइसी - लोकप्रिय टाइमर आइसी है। यह अन्य कामों के अलावा मुख्यतः ए-स्टेबल मल्टीवाइब्रेटर एवं मोनो-स्टेबल मल्टीवाइब्रेटर बनाने के लिये काम आता है।
 
* [[741 ऑपरेशनल प्रवर्धक]]
 
* [[7400 series]] [[Transistor-transistor logic|TTL]] logic building blocks (तार्किक निर्माण ब्लॉक)
 
* [[4000 series]], the [[CMOS]] counterpart to the 7400 series
 
* [[Intel 4004]], विश्व का पहला [[माइक्रोप्रोसेसर]] (सूक्ष्मप्रक्रमक)
 
* The [[MOS Technology 6502]] and [[Zilog Z80]] microprocessors, used in many [[home computer]]s of the early 1980s
 
माइक्रोचिप के कई और लाभ भी हैं। वर्तमान में माइक्रोचिप का प्रयोग जैविक प्रणालियों (बॉयोलॉजिकल सिस्टम) में होता है। इसका प्रयोग जीवन बचाने में भी होने लगा है। हृदय रोगियों के लिए पेसमेकर में भी माइक्रोचिप रहती है। पेसमेकर हृदय गति नियत्रिंत रखता है। माइक्रोचिप का प्रयोग घड़ियों, मोबाइल फोन से लेकर स्पेस शटल तक में हो रहा है।
 
<center></center>== इन्हें भी देखें ==
;सामान्य विषय
* [[कंप्यूटर अभियांत्रिकी]]
== संदर्भ ==
{{टिप्पणी सूची}}
 
== बाहरी कड़ियाँ ==