"तुषारी भाषाएँ" के अवतरणों में अंतर

100 बैट्स् जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(नया पृष्ठ: thumb|240px|एक तख़्ती पर [[ब्राह्मी लिपि में लिखी हुई तुषारी 'बी'...)
 
[[File:Tocharian.JPG|thumb|240px|एक तख़्ती पर [[ब्राह्मी लिपि]] में लिखी हुई तुषारी 'बी' भाषा (कूचा, [[आक़्सू विभाग]], [[शिनजियांग प्रान्त]], चीन से मिली)]]
[[File:Tocharian3.jpg|thumb|240px|तुषारी पांडुलिपि का अंश]]
'''तुषारी''' या '''तुख़ारी''' (<small>[[अंग्रेज़ी]]: Tocharian, टोचेरियन; [[यूनानी भाषा|यूनानी]]: Τόχαροι, तोख़ारोई</small>) [[मध्य एशिया]] की [[तारिम द्रोणी]] में बसने वाले [[तुषारी लोगों]] द्वारा बोली जाने वाली [[हिन्द-यूरोपीय भाषा परिवार]] की भाषाएँ थीं जो समय के साथ विलुप्त हो गई। एक [[तुर्की भाषाएँ|तुर्की]] ग्रन्थ में तुषारी को 'तुरफ़ानी भाषा' भी बुलाया गया था। इतिहासकारों का मानना है कि जब तुषारी-भाषी क्षेत्रों में [[तुर्की भाषाएँ]] बोलने वाली [[उईग़ुर लोगों]] का क़ब्ज़ा हुआ तो तुषारी भाषाएँ ख़त्म हो गई। तुषारी की लिपियाँ [[भारत]] की [[ब्राह्मी लिपि]] पर आधारित थीं और उन्हें तिरछी ब्राह्मी (<small>Slanted Brahmi</small>) कहा जाता है।<ref name="ref03yamuz">[http://books.google.com/books?id=y3KdxBqjg5cC The Blackwell encyclopedia of writing systems], Florian Coulmas, Wiley-Blackwell, 1999, ISBN 9780631214816, ''... the Gupta script is a direct descendent of Brahmi writing ... a cursive variety was carried to Central Asia where it was further developed into the Tocharian script, also known as 'Central Asian slanting' ...''</ref>