"वामनावतार" के अवतरणों में अंतर

22 बैट्स् जोड़े गए ,  7 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (Somesh virgo ने वामन पृष्ठ वामनावतार पर स्थानांतरित किया)
==प्रतीकात्मकता==
वामनावतार के रूप में विष्णु ने बली को यह पाठ दिया कि दंभ तथा अहंकार से जीवन में कुछ हासिल नहीं होता है और यह भी कि धन-सम्पदा क्षणभंगुर होती है। ऐसा माना जाता है कि विष्णु के दिये वरदान के कारण प्रति वर्ष बली धरती पर अवतरित होते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि उनकी प्रजा खु़शहाल है।<ref name=trivikrama/>
==रामायण में==
अध्यात्म रामायण के अनुसार वामनावतार महाबली के ग्रह सुताल के द्वारपाल बन गये<ref>P. 281 ''The Adhyatma Ramayana: Concise English Version'' By Chandan Lal Dhody </ref><ref> P. 134 ''{{IAST|Srī Rūpa Gosvāmī's Bhakti-rasāmṛta-Sindhuh}}'' By Rūpagosvāmī, Bhakti Hridaya Bon </ref> और सदैव बने रहेंगे।<ref> P. 134 ''Sri Rūpa Gosvāmīs Bhakti-rasāmrta-sindhuh'' By Rūpagosvāmī </ref> [[तुलसीदास]] द्वारा रचित [[रामचरितमानस]] में भी इसका ऐसा ही उल्लेख है।<ref> P. 246 ''Complete Works of Gosvami Tulsidas'' By Satya Prakash Bahadur, Tulasīdāsa </ref>