"हिन्दुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसिएशन" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
 
{{प्रतीक्षा}}
[[चित्र:Patron of Ram Prasad Bismil.gif|thumb|right|200px|हिन्दुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसिएशन के सूत्रधार व संरक्षक [[लाला हरदयाल]]]]
'''हिन्दुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसिएशन''', जिसे संक्षेप में एच०आर०ए० भी कहा जाता था, उत्तरी भारत की एक प्रमुख क्रान्तिकारी पार्टी थी जिसका गठन [[हिन्दुस्तान]] को अंग्रेजों के अत्याचारी शासन से मुक्त कराने के उद्देश्य से [[उत्तर प्रदेश]] तथा [[बंगाल]] के कुछ क्रान्तिकारियों द्वारा सन् १९२४ में [[कानपुर]] में किया गया था। इसकी स्थापना में [[लाला हरदयाल]] की भी महत्वपूर्ण भूमिका थी। [[काकोरी काण्ड]] के पश्चात् जब चार-चार क्रान्तिकारियों को [[फाँसी]] पर लटका कर मार दिया गया और एच०आर०ए० के सोलह प्रमुख क्रान्तिकारियों को चार वर्ष से लेकर उम्र भर के लिये जेल में डाल दिया गया तो यह संगठन छिन्न-भिन्न हो गया। बाद में इसे [[चन्द्रशेखर आजाद]] ने अपने युवा सहयोगी [[भगत सिंह]] के साथ मिलकर पुनर्जीवित किया और एक नया नाम दिया [[हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन]]। सन् १९२४ से लेकर १९३१ तक लगभग आठ वर्ष इस संगठन का पूरे [[भारतवर्ष]] में दवदवा रहा जिसके परिणाम स्वरूप न केवल ब्रिटिश सरकार अपितु अंग्रेजों की साँठ-गाँठ से १८८५ में स्थापित छियालिस साल पुरानी [[कांग्रेस]] पार्टी भी अपनी मूलभूत नीतियों में परिवर्तन करने पर विवश हो गयी।
 
इसके बाद ब्रिटिश सरकार ने झूठी-सच्ची गवाहियाँ इकट्ठी की और एक सोची समझी रणनीति के तहत दल के सरगना पण्डित राम प्रसाद 'बिस्मिल' व अन्य सभी एच०आर०ए० सदस्यों पर सम्राट के विरुद्ध सशस्त्र युद्ध छेड़ने, सरकारी खजाना लूटने व मुसाफिरों की हत्या करने का मुकदमा चलाया। लगभग अठारह महीने तक चले इस ऐतिहासिक मुकदमें में [[राजेन्द्रनाथ लाहिड़ी]], पण्डित [[राम प्रसाद बिस्मिल]], [[अशफाक उल्ला खाँ]] तथा ठाकुर [[रोशन सिंह]] को [[फाँसी]] सजा दी गयी जबकि १६ अन्य क्रान्तिकारियों को कम से कम ४ वर्ष की सजा से लेकर अधिकतम आजीवन कारावास तक का दण्ड दिया गया। सभी प्रमुख क्रान्तिकारियों पर एक साथ हुए इस वज्राघात ने ऐसोसिएशन को तहस-नहस कर दिया।
 
==दल का पुनर्गठन==
 
काकोरी काण्ड से फरार बिस्मिल के सच्चे उत्तराधिकारी पण्दित [[चन्द्रशेखर आजाद]] ने युवा क्रान्तिकारी [[भगत सिंह]] के साथ मिलकर दिल्ली के फीरोजशाह कोटला मैदान में एक गुप्त मीटिंग करके पुनर्जीवित किया और संगठन को एक नया नाम दिया [[हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन]]। इस प्रकार सन् १९२४ से लेकर १९३१ तक लगभग आठ वर्ष इस संगठन का पूरे [[भारतवर्ष]] में दवदवा रहा जिसके परिणाम स्वरूप न केवल ब्रिटिश सरकार को अपितु अंग्रेजों की साँठ-गाँठ से १८८५ में स्थापित छियालिस साल पुरानी [[कांग्रेस]] पार्टी को भी अपनी मूलभूत नीतियों में परिवर्तन करना पडा।
 
 
 
==सन्दर्भ==
*[[राम प्रसाद 'बिस्मिल']]
*[[काकोरी काण्ड]]
[[श्रेणी:भारतीय स्वतंत्रता संग्राम]]
6,802

सम्पादन