"भित्तिचित्र कला" के अवतरणों में अंतर

198 बैट्स् जोड़े गए ,  8 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(Krishan1989 (वार्ता) द्वारा किए बदलाव 1878014 को पूर्ववत करें)
भितिचित्र कला ज्यादातर छत्तीसगढ़ के जिला सरगुजा, तहसील अंबिकापुर के अंतर्गत आने वाले गांवों जैसे पुहपुटरा,लखनपुर, केनापारा आदि में लोक एवं आदिवासी जातियों द्वारा अभ्यास की जाने वाली ऐसी लोक कला है जो गांव की औरतों के द्वारा वहां की कच्ची मिट्टी से बनी झोपड़ियों की दीवारों पर गोबर, चाक मिट्टी, गोबर आदि को मिलाकर की जाती है। घर सुदूरकी आदिवासीयदीवारें क्षेत्रोंमूर्तियों, में जहाँ कि सजावट आदि के साधन अपर्याप्त होते थेजालियों, लोगविविध वहाँआकल्पनों प्रचलितऔर विभिन्न त्योहारों व धार्मिक अवसरोंभिति के समयकलात्मक अपने घरों की सज्जा हेतु दीवारों में कच्ची मिट्टी द्चारा पेड़-पौधों, पशु-पक्षियों आदि के आकृतियां बनाकर व उनमें बहुत ही मनोरम रंगोंरुप से रंगकर अपने घरों को सजाते हैं।
 
सुदूर आदिवासीय क्षेत्रों में जहाँ कि सजावट आदि के साधन अपर्याप्त होते थे, लोग वहाँ प्रचलित विभिन्न त्योहारों व धार्मिक अवसरों के समय अपने घरों की सज्जा हेतु दीवारों में कच्ची मिट्टी द्चारा पेड़-पौधों, पशु-पक्षियों आदि के आकृतियां बनाकर व उनमें बहुत ही मनोरम रंगों से रंगकर अपने घरों को सजाते हैं।
59

सम्पादन