"अलसी" के अवतरणों में अंतर

7 बैट्स् जोड़े गए ,  8 वर्ष पहले
 
[[आयुर्वेद]] में अलसी को मंदगंधयुक्त, मधुर, बलकारक, किंचित कफवात-कारक, पित्तनाशक, स्निग्ध, पचने में भारी, गरम, पौष्टिक, कामोद्दीपक, पीठ के दर्द ओर सूजन को मिटानेवाली कहा गया है। गरम पानी में डालकर केवल बीजों का या इसके साथ एक तिहाई भाग [[मुलेठी]] का चूर्ण मिलाकर, [[क्वाथ]] (काढ़ा) बनाया जाता है, जो [[रक्तातिसार]] और मूत्र संबंधी रोगों में उपयोगी कहा गया है।
{{-}}
==चित्र दीर्घा ==
<gallery>
चित्र:Illustration Linum usitatissimum0.jpg|तीसी का पौधा
</gallery>
 
==बाहरी कड़ियाँ==
*[http://uthojago.wordpress.com/2011/03/22/अलसी-का-सेवन-किस-रोग-में-व-क/ अलसी का सेवन किस रोग में व कैसे करें?]