"ग़दर पार्टी" के अवतरणों में अंतर

63 बैट्स् जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
छो (r2.7.2) (Robot: Adding ta:கதர் கட்சி)
 
==स्थापना==
गदर पार्टी का जन्म अमेरिका के [[सैन फ्रांसिस्को]] के एस्टोरिया में 1913 में अंग्रेजी साम्राज्य को जड़ से उखाड़ फेंकने के उद्देश्य से हुआ। गदर पार्टी के संस्थापक अध्यक्ष '''[[सोहन सिंह भाकना|सरदार सोहन सिंह भाकना]]''' थे। इसके अतिरिक्त केसर सिंह थथगढ - उपाध्यक्ष, [[लाला हरदयाल]] - महामंत्री, लाला ठाकुर दास धुरी - संयुक्त सचिव और पण्डित कांशी राम मदरोली - कोषाध्यक्ष थे।
 
स्थापना के बाद गदर पार्टी की पहली बैठक सैक्रामेंटो, [[कैलिफोर्निया]] में दिसम्बर 1913 में आयोजित की गयी। इसमें कार्यकारिणी के सदस्यों की घोषणा भी की गयी।गयी, जो कि इस प्रकार है-
 
[[करतार सिंह सराभा]], [[संतोख सिंह]], अरूड़अरूण सिंह, पृथी सिंह, पण्डित जगत राम, करम सिंह चीमा, निधान सिंह चुघ, संत वसाखा सिंह, पण्डित मुंशी राम, हरनाम सिंह कोटला, नोध सिंह थे। गुप्त और भूमिगत कार्यों के लिए एक कमेटी बनायी गयी जिसमें सोहन सिंह भाकना, संतोख सिंह और पण्डित कांशी राम सदस्य थे।
 
===गदर पार्टी का उद्देश्य===
 
===गदर पार्टी का पत्र===
गदर पार्टी ने अपना पत्र "गदर" निकाला जिसमें ब्रिटिश हकुमत का खुला विरोध किया गया। गदर नामक पत्र [[हिन्दी]], [[पंजाबी]], [[उर्दुउर्दू]] और अन्य भारतीय भाषाओं में छापा जाता था। "युगान्तर आश्रम" गदर पार्टी का मुख्यालय था। यहीं से गदर पार्टी ने एक पोस्टर छापा था जिसे पंजाब में जगह जगह चिपकाया भी गया था। इस पोस्टर पर लिखा था - "जंग दा होका" अर्थात युद्ध की घोषणा।
 
==गदर की योजना और लाहौर षडयन्त्र==