"दीपावली" के अवतरणों में अंतर

1 बैट् जोड़े गए ,  8 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (r2.7.2) (Robot: Modifying sa:दीपावलिः)
|type =<!--DO NOT CHANGE! THIS CONTROLS COLOUR-->hindu<!--DO NOT CHANGE! THIS CONTROLS COLOUR-->
}}
'''दीपावली''' का अर्थ है [[दीपक|दीपों]] की पंक्ति। दीपावली शब्द ‘दीप’ एवं ‘आवली’ की संधिसे बना है। आवली अर्थात पंक्ति, इस प्रकार दीपावली शब्दकाशब्द का अर्थ है, दीपोंकी पंक्ति । भारतवर्षमें मनाए जानेवाले सभी त्यौहारों में दीपावलीका सामाजिक और धार्मिक दोनों दृष्टि से अत्यधिक महत्त्व है। इसे दीपोत्सव भी कहते हैं। ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ अर्थात् ‘अंधेरे से ज्योति अर्थात प्रकाश की ओर जाइए’ यह उपनिषदोंकी आज्ञा है। इसे [[सिख धर्म|सिख]], [[बौद्ध]] तथा [[जैन धर्म]] के लोग भी मनाते हैं।<ref>Mahavira and His Teachings by A. N. Upadhye, Review: Richard J. Cohen, Journal of the American Oriental Society, Vol. 102, No. 1 (Jan. - Mar., 1982), pp. 231-232</ref> माना जाता है कि दीपावली के दिन [[अयोध्या]] के राजा [[श्री रामचंद्र]] अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे।<ref>[http://www.swargarohan.org/Ramayana/Uttar-Kand.htm Ramcharitmanas, Uttarkand]</ref> अयोध्यावासियों का ह्रदय अपने परम प्रिय राजा के आगमन से उल्लसित था। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीए जलाए । [[कार्तिक]] मास की सघन काली [[अमावस्या]] की वह रात्रि दीयों की रोशनी से जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं। यह पर्व अधिकतर [[ग्रेगोरी कैलंडर|ग्रिगेरियन कैलन्डर]] के अनुसार [[अक्तूबर]] या [[नवंबर]] महीने में पड़ता है। दीपावली दीपों का [[त्योहार]] है। इसे दीवाली या दीपावली भी कहते हैं। दीवाली अँधेरे से रोशनी में जाने का प्रतीक है। [[भारत|भारतीयों]] का विश्वास है कि [[सत्य]] की सदा जीत होती है झूठ का नाश होता है। दीवाली यही चरितार्थ करती है- असतो माऽ सद्गमय , तमसो माऽ ज्योतिर्गमय। दीपावली स्वच्छता व प्रकाश का पर्व है। कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है। लोग अपने घरों, दुकानों आदि की सफाई का कार्य आरंभ कर देते हैं। घरों में मरम्मत, रंग-रोगन,सफ़ेदी आदि का कार्य होने लगता हैं। लोग दुकानों को भी साफ़ सुथरा का सजाते हैं। बाज़ारों में गलियों को भी सुनहरी झंडियों से सजाया जाता है। दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।
 
== धार्मिक संदर्भ ==
1

सम्पादन