"मित्र वरुण" के अवतरणों में अंतर

3,666 बैट्स् जोड़े गए ,  8 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
(नया पृष्ठ: '''मित्र और वरुण''' दो हिन्दू देवता है। इनका ...)
 
'''[[मित्र]] और [[वरुण]]''' दो [[हिन्दू देवी देवता|हिन्दू देवता]] है। इनका वर्णन या उल्लेख [[ऋगवेद]] में मिलता है। ये द्वादश [[आदित्य]] में भिभी गिने जाते हैं। इनका संबंध इतना गहरा है कि इन्हें द्वंद्व संघटकों के रूप में गिना जाजाता ताहै। इन्हें गहन अंतरंग मित्रता या भाइयों के रूप में उल्लेख किया गया है। ये दोनों [[कश्यप ऋषि]] की पत्नी [[अदिति]] के पुत्र हैं। ये दोनों जल पर सार्वभौमिक राज करते हैं, जहां मित्र सागर की गहराईयों एवं गहनता से संबद्ध है वहीं वरुण सागर के ऊपरी क्षेत्रों, नदियों एवं तटरेखा पर शासन करते हैं। मित्र सूर्योदय और दिवस से संबद्ध हैं जो कि सागर से उदय होता है, जबकि वरुण सूर्यास्त एवं रात्रि से संबद्ध हैं जो सागर में अस्त होती है।
दोनों देवता पृथ्वी एवं आकाश को जल से संबद्ध किये रहते हैं तथा दोनों ही चंद्रमा, सागर एवं ज्वार से जुड़े रहते हैं। भौतिक मानव शरीर में मित्र शरीर से मल को बाहर निकालते हैं जबकि वरुण पोषण को अंदर लेते हैं, इस प्रकार मित्र शरीर के निचले भागों (गुदा एवं मलाशय) से जुड़े हैं वहीं वरुण शरीर के ऊपरी भागों (मुख एवं जिह्वा) पर शसन करते हैं।<ref>[www.galva108.org/deities.html#Mitra_Varuna द गे एण्ड लेस्बियन वैष्णव एसोसियेशन इंका]- मित्र एण्ड वरुण। द्वारा अमर दास विल्हैल्म। गाल्वा-१०८।अभिगमन तिथि: २७ सितंबर, २०१२</ref>
 
In Vedic literature, Sri Mitra-Varuna are portrayed as icons of brotherly affection and intimate friendship between males (the Sanskrit word mitra means “friend” or “companion”). For this reason they are worshiped by men of the third sex, albeit not as commonly as other Hindu deities. They are depicted riding a shark or crocodile together while bearing tridents, ropes, conch shells and water pots. Sometimes they are portrayed seated side-by-side on a golden chariot drawn by seven swans. Ancient Brahmana texts furthermore associate Sri Mitra-Varuna with the two lunar phases and same-sex relations: “Mitra and Varuna, on the other hand, are the two half-moons: the waxing one is Varuna and the waning one is Mitra. During the new-moon night these two meet and when they are thus together they are pleased with a cake offering. Verily, all are pleased and all is obtained by any person knowing this. On that same night, Mitra implants his seed in Varuna and when the moon later wanes, that waning is produced from his seed.” (Shatapatha Brahmana 2.4.4.19) Varuna is similarly said to implant his seed in Mitra on the full-moon night for the purpose of securing its future waxing. In Hinduism, the new- and full-moon nights are discouraged times for procreation and consequently often associated with citrarata or unusual types of intercourse.
 
{{हिन्दू धर्म आधार}}