"ऑस्ट्रेलिया का इतिहास" के अवतरणों में अंतर

छो
r2.7.3) (Robot: Adding diq:Tarixê Awıstralya; अंगराग परिवर्तन
छो (r2.7.3) (Robot: Adding io:Historio di Australia)
छो (r2.7.3) (Robot: Adding diq:Tarixê Awıstralya; अंगराग परिवर्तन)
सोने की खानों और कृषि उद्योगों के कारण समृद्धि आई और उन्नीसवीं सदी के मध्य में सभी छः ब्रिटिश उपनिवेशों में स्वायत्त संसदीय लोकतंत्रों की स्थापना की शुरुआत हुई. सन 1901 में इन उपनिवेशों ने एक जनमत-संग्रह के द्वारा एक संघ के रूप में एकजुट होने के लिए मतदान किया और आधुनिक ऑस्ट्रेलिया अस्तित्व में आया. विश्व-युद्धों में ऑस्ट्रेलिया ब्रिटेन की ओर से लड़ा और [[द्वितीय विश्वयुद्ध|द्वितीय विश्व-युद्ध]] के दौरान शाही जापान द्वारा संयुक्त राज्य अमरीका को धमकी मिलने पर ऑस्ट्रेलिया संयुक्त राज्य अमरीका का दीर्घकालिक मित्र साबित हुआ. एशिया के साथ व्यापार में वृद्धि हुई और युद्धोपरांत एक बहु-सांस्कृतिक आप्रवास कार्यक्रम के द्वारा 6.5 मिलियन से अधिक प्रवासी यहाँ आए, जिनमें प्रत्येक महाद्वीप के लोग शामिल थे। अगले छः दशकों में जनसंख्या तिगुनी होकर 2010 में लगभग 21 मिलियन तक पहुँच गई, जहाँ 200 देशों के मूल नागरिक मिलकर विश्व की चौदहवीं सबसे बड़ी अर्थ-व्यवस्था का निर्माण करते हैं। <ref>http://www.dfat.gov.au/aib/overview.html</ref>
 
== आस्ट्रेलियाई आदिवासी ==
[[चित्र:Aboriginal Art Australia.jpg|thumb|upright|काकदु राष्ट्रीय उद्यान में उबिर पर रॉक पेंटिंग]]
[[चित्र:Hut Eastern Arrernte Basedow.jpg|thumb|upright|एक पारंपरिक झोपड़ी (1920) में उत्तरी क्षेत्र के एक एरेंटे आदमी.]]
 
=== यूरोपीय संपर्क से पहले के आस्ट्रेलियाई आदिवासी ===
ऐसा माना जाता है कि ऑस्ट्रेलिया के मूल-निवासियों के पूर्वज शायद 40,000 से 60,000 वर्षों पूर्व ऑस्ट्रेलिया में आए, लेकिन संभव है कि वे और पहले लगभग 70,000 वर्षों पूर्व यहाँ आए हों.<ref>पीटर हिसकॉक (2008). ''ऑस्ट्रेलिया प्राचीन पुरातत्व'' . रूटलेज: लंदन. ISBN 0-415-33811-5</ref><ref>जॉन मलवानी और जोहन कमिंगा (1999). ''ऑस्ट्रेलिया के प्रागितिहास.'' एलन और अनविन, सिडनी. ISBN 1 864489502</ref> उन्होंने शिकारी संग्राहकों की जीवन-शैली विकसित की, वे आध्यात्मिक तथा कलात्मक परंपराओं का पालन करते थे और उन्होंने [[पाषाण युग|पाषाण प्रौद्योगिकियों]] का प्रयोग किया। ऐसा अनुमान है कि [[यूरोप]] से हुए पहले संपर्क के समय इनकी जनसंख्या कम से कम 350,000 थी,<ref>एल. स्मिथ (1980), ''द अबौरिजनल पॉप्युलेशन ऑफ़ ऑस्ट्रेलिया'' , ऑस्ट्रेलियन नैशनल यूनिवर्सिटी प्रेस, कैनबरा.</ref><ref>जेफ्री ब्लेनी (1975) ''ट्रीएम्फ ऑफ़ द नोमैड्स: अ हिस्ट्री ऑफ़ एशियंट ऑस्ट्रेलिया'' . पृष्ठ 92 सन बुक्स. ISBN 0 7251 02403. ब्लेनली ने मानवविज्ञानी ए.आर. रैडक्लिफ-ब्राउन द्वारा सन 1930 के दशक में किये गए एक शोध का हवाला दिया है। एक पाद टिप्पणी में उन्होंने गणना की है कि 28,000 ईपू से ऑस्ट्रेलिया में 300 मिलियन से अधिक ऑस्ट्रेलियाई आदिवासियों ने अपना जीवन बिताया और उनकी मृत्यु हुई और उन्होंने सन 1788 की जनसंख्या 300,000 बताई है। </ref> जबकि हाल के पुरातात्विक शोध बताते हैं कि कम से कम 750,000 की जनसंख्या रही होगी.<ref name="pop_abs">[http://www.abs.gov.au/ausstats/abs@.nsf/94713ad445ff1425ca25682000192af2/bfc28642d31c215cca256b350010b3f4!OpenDocument 1301.0 - इयर बुक ऑस्ट्रेलिया, 2002] सांख्यिकी के ऑस्ट्रेलियाई ब्यूरो 25 जनवरी 2002</ref><ref>नोएल बटलीन (1983) ''आवर ऑरिजनल अग्रेशन'' जॉर्ज एलेन और अन्विन सहित अन्य इतिहासकारों को भी देखें, सिडनी. ISBN 0 868612235</ref> ऐसा प्रतीय होता है कि हिमनदीकरण (Glaciation) की अवधि के दौरान लोग समुद्र के रास्ते यहाँ आए थे, जब [[नया गिनी|न्यू गिनी]] और [[टासमानिया|तस्मानिया]] इसी महाद्वीप से जुड़े हुए थे। हालांकि, इसके बावजूद भी इस सफर के लिए समुद्री-यात्रा की आवश्यकता होती थी, जिसके चलते वे लोग विश्व के शुरुआती समुद्री यात्रियों में से एक बन गए.<ref>टिम गरी (एड)(1984) ''द यूरोपियन औकयुपेशन'' में रॉन लैडलॉ "ऐबऑरिजनल सोसाइटी बिफोर यूरोपियन सेटेलमेंट". हिनेमैन शैक्षिक ऑस्ट्रेलिया, रिचमंड. पृष्ठ.40. ISBN 0 85859 2509</ref>
 
स्थायी यूरोपीय उपनिवेशवादी सन 1788 में सिडनी पहुँचे और उन्नीसवीं सदी के अंत तक उन्होंने महाद्वीप के अधिकांश भाग पर कब्ज़ा कर लिया. काफी हद तक अनछुए रहे ऑस्ट्रेलियाई आदिवासी समाजों के गढ़ बीसवीं सदी तक बचे रहे, विशिष्ट रूप से उत्तरी व पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया में, जब अंततः 1984 में गिब्सन मरुस्थल के पिंटुपी लोगों के एक समूह के सदस्य बाहरी लोगों के संपर्क में आने वाले अंतिम लोग बने.<ref name="Central Art Store">सेंट्रल कला स्टोर: "द लौस्ट नोमैड्स" http://www.aboriginalartstore.com.au/aboriginal-art-culture/the-last-nomads.php</ref><ref name="Central Art Store" /> हालांकि अधिकांश ज्ञान नष्ट हो चुका था, लेकिन ऑस्ट्रेलियाई आदिवासियों की कला, संगीत व संस्कृति, जिसका संपर्क के प्रारम्भिक काल में यूरोपीय लोगों द्वारा अक्सर तिरस्कार किया जाता था, बची रही और समय-समय पर व्यापक ऑस्ट्रेलियाई समुदाय द्वारा इसकी प्रशंसा भी की गई.
 
=== 1788 के बाद यूरोपीय लोगों के साथ संपर्क व संघर्ष ===
[[चित्र:Gov Davey's proclamation-edit2.jpg|thumb|upright|सन 1816 में अश्वेत युद्ध के चरम पर पहुँचने से पूर्व वैन डायमेन की भूमि में जारी एक पोस्टर, जिसमें उपनिवेशवादियों और ऑस्ट्रेलियाई आदिवासियों के लिए मित्रता और समान न्याय की लेफ्टिनेंट-गवर्नर आर्थर की नीति को चित्रित किया गया है]]
[[चित्र:Augustus Earle Portrait of Bungaree.jpg|thumb|upright|सिडनी में आदिवासी एक्सप्लोरर बंगारी के पोर्ट्रेट.]]
सन 1786 में स्वीडन के राजा गुस्ताव तृतीय की अपने देश के लिए स्वान रिवर (Swan River) पर एक उपनिवेश बनाने की आकांक्षा जन्म लेते ही समाप्त हो गई.<ref>रॉबर्ट जे. किंग, "गस्तफ़ III ऑस्ट्रेलियन कोलोनी", ''द ग्रेट सर्कल'' , खंड 27, संख्या 2, पीपी 3-20. एपीएफटी (APAFT) पर: search.informit.com.au/fullText;dn=200600250;res=APAFT</ref> ऐसा सन 1788 तक नहीं हो सका, जब ग्रेट ब्रिटेन की आर्थिक, प्रौद्योगिकीय और राजनैतिक परिस्थितियों ने उस देश के लिए इस बात को संभव व लाभकर बनाया कि वे न्यू साउथ वेल्स में अपना पहला बेड़ा भेजने का बड़े पैमाने पर प्रयास करें.<ref>कैम्पबेल मैकनाइट, "अ यूजलेस डिस्कवरी?" ऑस्ट्रेलिया एंड इट्स पीपल इन द आइज़ ऑफ़ अदर्स फ्रॉम तसमान टू कूक", ''द ग्लोब'' , संख्या. 61. 2008, पीपी 110.</ref>
 
== ब्रिटिश बस्तियाँ व उपनिवेशीकरण ==
=== उपनिवेशीकरण की योजनाएं ===
[[चित्र:Indig2.jpg|thumb|एन्ड्र्यु गैरन, 1886 की "ऑस्ट्रेलिया: फर्स्ट हंड्रेड ईयर्स (Australia: the first hundred years)" से लिया गया एक नक्काशीदार चित्र, जिसमें सन 1770 में कैप्टन जेम्स कुक के आगमन का विरोध कर रहे ग्वीयागल जनजाति के मूलनिवासी प्रदर्शित हैं]]
 
जर्मन वैज्ञानिक तथा साहित्यकार जॉर्ज फ्रॉस्टर, जिन्होंने ''रिज़ॉल्यूशन'' (1772-1775) के समुद्री अभियान के दौरान कैप्टन जेम्स कुक के नेतृत्व में यात्रा की थी, ने सन 1786 में इंग्लिश उपनिवेश की भावी संभावनाओं के बारे में लिखा: "न्यू हॉलैंड, विशाल विस्तार वाला एक द्वीप या ऐसा कहा जा सकता है कि तीसरा महाद्वीप, नये सभ्य समाज की भावी जन्मभूमि है, और भले ही इसकी शुरुआत चाहे कितनी ही निकृष्ट प्रतीत होती हो, लेकिन इसके बावजूद यह थोड़े ही समय में बहुत महत्वपूर्ण बन जाने का वादा करती है। <ref>जॉर्ज फोर्स्टर, "बोटैनी-बे में Neuholland und die brittische Colonie", ''Allgemeines historisches Taschenbuch'' , (बर्लिन, दिसंबर 1786), http://web.mala.bc.ca/Black/AMRC/index.htm?home.htm&amp;2 और http://www.australiaonthemap.org.au/content/view/47/59/ पर अंग्रेजी अनुवाद</ref>
 
=== ऑस्ट्रेलिया में ब्रिटिश उपनिवेश ===
[[चित्र:ArthurPhilip.jpg|thumb|left|न्यू साउथ वेल्स के आर्थर फिलिप, पहले राज्यपाल.]]
[[चित्र:Norfolk Island jail1.jpg|thumb|left|नॉरफ़ॉक द्वीप पर अपराधी बनी हुई है। ]]
[[चित्र:George Bowen b.jpg|thumb|सर जॉर्ज बोवेन, क्वींसलैंड के पहले राज्यपाल.]]
 
==== न्यू साउथ वेल्स में पहला उपनिवेश ====
 
जनवरी 1788 में कैप्टन आर्थर फिलिप के नेतृत्व में 11 जहाजों के पहले बेड़े के आगमन के साथ ही न्यू साउथ वेल्स के ब्रिटिश उपनिवेश की स्थापना हुई. इसमें एक हज़ार से अधिक उपनिवेशवादी थे, जिनमें 778 अपराधी (192 महिलाएँ और 586 पुरुष) शामिल थे। <ref>रोजलिंड माइल्स (2001) ''हु कूक्ड द लास्ट सपर: द वुमेन हिस्ट्री ऑफ़ द वर्ल्ड'' थ्री रिवर्स प्रेस. ISBN 0-609-80695-5 [http://books.google.com/books?id=6vPOD6Ol15MC&amp;printsec=frontcover&amp;dq=womens+history++of+the+world&amp;hl=en&amp;ei=2lCATOC9BcKC8gbPrNT3Cw&amp;sa=X&amp;oi=book_result&amp;ct=book-thumbnail&amp;resnum=2&amp;ved=0CD0Q6wEwAQ#v=onepage&amp;q=first%20fleet&amp;f=false ]</ref> बॉटनी बे पर आगमन के कुछ दिनों बाद यह बेड़ा अधिक उपयुक्त स्थान पोर्ट जैक्सन की ओर बढ़ गया, जहाँ 26 जनवरी 1788 को सिडनी कोव में एक बस्ती की स्थापना की गई.<ref>पीटर हिल (2008) पृष्ठ.141-150</ref> बाद में यह तिथि ऑस्ट्रेलिया का राष्ट्रीय दिवस, ऑस्ट्रेलिया डे, बन गई. 7 फरवरी 1788 को गवर्नर फिलिप द्वारा सिडनी में इस उपनिवेश की आधिकारिक घोषणा की गई.
इस कॉलोनी में वर्तमान [[न्यूज़ीलैण्ड|न्यूज़ीलैंड]] के द्वीप भी शामिल थे, जिसका प्रशासन न्यू साउथ वेल्स के एक भाग के रूप में किया जाता था। सन 1817 में, ब्रिटिश सरकार ने दक्षिणी प्रशांत पर व्यापक क्षेत्राधिकार का दावा वापस ले लिया. व्यावहारिक रूप से, सरकार का आज्ञापत्र दक्षिणी प्रशांत के द्वीपों में क्रियान्वित न होता हुआ देखा जाता रहा है। <ref>''हिसटॉरिकल रिकॉर्ड्स ऑफ़ ऑस्ट्रेलिया'' , श्रृंखला III, खंड VIII, 1916, पीपी.96 118, 623; और श्रृंखला IV, खंड I, 1922, पीपी. 103-4.</ref> चर्च मिशनरी सोसाइटी साउथ सी आइलैंड्स के मूल निवासियों के खिलाफ हो रहे अत्याचारों, और अराजकता से निपटने में न्यू साउथ वेल्स सरकार की अप्रभावकारिता को लेकर चिंतित थी. इसके परिणामस्वरूप, 27 जून 1817 को संसद ने ''महारानी के उपनिवेशों में न आने वाले स्थानों में की गई हत्याओं व नरसंहार के लिए अधिक प्रभावपूर्ण सजा के लिए एक कानून (Act for the more effectual Punishment of Murders and Manslaughters committed in Places not within His Majesty's Dominions)'' पारित किया, जिसके अनुसार ताहिती, न्यूज़ीलैंड और दक्षिणी प्रशांत के अन्य द्वीप महाराज के उपनिवेशों में शामिल नहीं थे। <ref>''स्टैचूट एट लार्ज'' , 57 जियो.III, सी.53, पृष्ठ.27, चर्च मिशनरी सोसाइटी टू बाथर्स्ट [1817 जल्दी], ''हिसटॉरिकल रिकॉर्ड्स ऑफ़ न्यूजीलैंड'' , खंड I, पीपी 417 29; लंदन मिशनरी सोसाइटी टू मार्सडेन, 5 जून 1817, माइकल लाइब्रेरी, ''मार्सडेन पेपर्स'' , ए1995, खंड 4, पृष्ठ 64, ए.टी. यार्वूड, ''सैम्युल मार्सडेन: द ग्रेट सर्वाइवर'' , मेलबर्न, एमयूपी (MUP), 1977, पृष्ठ 192; रॉबर्ट मैकनब, ''फ्रॉम तसमान टू मार्सडेन'' , डुनेडिन, 1914, पृष्ठ 207.</ref>
 
==== अन्य उपनिवेशों की ओर विस्तार ====
सन 1788 में न्यू साउथ वेल्स में उपनिवेश की स्थापना के बाद ऑस्ट्रेलिया को सिडनी स्थित औपनिवेशिक सरकार के प्रशासन के अधीन न्यू साउथ वेल्स नामक एक पूर्वी अर्ध-भाग तथा न्यू हॉलैंड नामक एक पश्चिमी अर्ध-भाग में विभाजित किया गया.
 
नई सीमा में मेल्विल और बाथर्स्ट आइलैण्ड तथा निकटवर्ती मुख्य-भूमि शामिल थी. सन 1826 में, ब्रिटिशों का दावा पूरे ऑस्ट्रेलियाई महाद्वीप तक फैल गया, जब मेजर एडमंड लॉकियर ने किंग जॉर्ज साउंड (बाद के एल्बनी नगर का आधार) में एक उपनिवेश की स्थापना की, लेकिन [[पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया|वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया]] की पूर्वी सीमा अक्षांश 129˚ पूर्व पर अपरिवर्तित बनी रही. सन 1824 में, ब्रिस्बेन नदी के मुहाने पर एक दण्डात्मक उपनिवेश (बाद के [[क्वीन्सलैण्ड|क्वीन्सलैंड]] के उपनिवेश का आधार) की स्थापना की गई. सन 1829 में, स्वान रिवर कॉलोनी और इसकी राजधानी [[पर्थ]] को पश्चिमी तट पर बसाया गया और उस पर किंग जॉर्ज साउंड के नियंत्रण को मान्यता दी गई. प्रारम्भ में एक स्वतंत्र उपनिवेश रहे पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया ने बाद में मजदूरों की भारी कमी के कारण ब्रिटिश अपराधियों को स्वीकार कर लिया.
 
=== अपराधी और औपनिवेशिक समाज ===
[[चित्र:Black-eyed Sue and Sweet Poll of Plymouth taking leave of their lovers who are going to Botany Bay.jpeg|thumb|left|प्लायमाउथ, इंग्लैंड की काली-आंखों वाली स्यु और स्वीट पॉल, जो अपने प्रेमियों के लिए विलाप कर रही हैं, जिन्हें जल्द ही बॉटनी बे निर्वासित किया जाना है, 1792]]
[[चित्र:Battle of VinegarHill.jpg|thumb|1804 के कासल हिल कंविक्ट विद्रोह चित्र का वर्णन करते हैं। ]]
यूरोपीय उपनिवेशीकरण के पहले 100 वर्षों में कृषि और अन्य कार्यों के लिए भूमि को बड़े पैमाने पर साफ किया गया। स्वाभाविक प्रभावों के अलावा भूमि की इस प्रारम्भिक सफाई और सख्त-खुरों वाले जानवरों को लाये जाने का विशिष्ट क्षेत्रों की पारिस्थितिकी पर प्रभाव पड़ा, इसने ऑस्ट्रेलियाई मूल-निवासियों को बहुत अधिक प्रभावित किया क्योंकि वे अपने भोजन, निवास और अन्य आवश्यकताओं के लिए जिन संसाधनों पर आश्रित रहते थे, उनमें कमी आ गई. इससे वे क्रमशः अधिक छोटे क्षेत्रों की ओर जाने पर मजबूर कर दिये गए और उनकी संख्या भी कम हो गई क्योंकि नई बीमारियों और संसाधनों की कमी के कारण बड़ी संख्या में उनकी मृत्यु हो गई. उपनिवेशवादियों के विरुद्ध मूल-निवासियों का विरोध व्यापक था और सन 1788 से सन 1920 के दशक तक चली लंबी लड़ाई के परिणामस्वरूप कम से कम 20,000 मूल-निवासियों और 2,000 से 2500 के बीच यूरोपीय लोगों की मृत्यु हो गई.<ref>{{cite book|last=Grey|first=Jeffrey|title=A Military History of Australia|publisher=Cambridge University Press|location=Port Melbourne|year=2008|edition=Third|isbn=9780521697910|pages=28–40}}</ref> उन्नीसवीं सदी के मध्य से अंत के दौरान, अनेक दक्षिण-पूर्वी ऑस्ट्रेलिया के अनेक ऑस्ट्रेलियाई मूल-निवासियों को, अक्सर बलपूर्वक, आरक्षित क्षेत्रों व मिशनों की ओर स्थलांतरित कर दिया गया। इनमें से अनेक संस्थाओं के स्वरूप ने बीमारियों को तेज़ी से फैलाने में सहायता की और इनमें से अनेक को इसलिए बंद कर दिया गया क्योंकि उनमें रहनेवालों की संख्या घट गई थी.
 
== औपनिवेशिक स्वशासन और सोने की खोज ==
[[चित्र:Eureka stockade battle.jpg|thumb|right|upright|यूरेका स्टॉकेड रायट. जेबी हेंडरसन (1854) वॉटरकलर]]
[[चित्र:Bernhard otto holterman with 630lb gold from Hill End.jpg|thumb|upright|हिल एंड से एक सोने का डला, 1872 में पता लगाया]]
हालांकि उन्नीसवीं सदी के अंतिम भाग में, दक्षिण पूर्वी ऑस्ट्र्रेलिया के शहरों में अत्यधिक विकास देखा गया। सन 1900 में ऑस्ट्रेलिया की जनसंख्या (जिसमें ऑस्ट्रेलियाई आदिवासी शामिल नहीं थे क्योंकि उन्हें जनगणना से अलग रखा गया था) 3.7 मिलियन थी, जिनमें से लगभग 1 मिलियन लोग [[मेलबॉर्न|मेलबर्न]] व [[सिडनी]] में रहा करते थे। <ref>सी.एम.एच. क्लार्क (1971) पृष्ठ.666</ref> उस सदी की समाप्ति तक आते-आते कुल जनसंख्या के दो तिहाई से अधिक लोग शहरों में निवास करने लगे, जिससे ऑस्ट्रेलिया “पश्चिमी विश्व के सर्वाधिक शहरीकृत समाजों में से एक” बन गया.<ref>ली एस्टबरी (1985) ''सिटी बुशमेन; द हिडेलबर्ग स्कूल एंड द रुरल माइथोलॉजी'' . पृष्ठ.2 ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, मेलबर्न. ISBN 0 19554501 X</ref>
 
== ऑस्ट्रेलियाई लोकतंत्र का विकास ==
[[चित्र:Catherine Helen Spence.jpg|thumb|150px|दक्षिण ऑस्ट्रेलियाई सफ्रागेट कैथरीन हेलेन स्पेन्स (1825-1910).सन 1995 में, साउथ ऑस्ट्रेलिया की महिलाएँ मतदान का अधिकार प्राप्त करने वाली तथा संसद में खड़ी हो पाने वाली विश्व की शुरुआती महिलाओं में से एक थीं.]]
 
हालांकि ऑस्ट्रेलिया की विभिन्न संसदें लगातार बनतीं रहीं हैं, लेकिन चयनित संसदीय सरकार के मुख्य आधार ने ऑस्ट्रेलिया में सन 1850 के दशक से लेकर इक्कीसवीं सदी में प्रवेश तक भी अपनी ऐतिहासिक निरंतरता कायम रखी है।
 
== राष्ट्रवाद और संघ का विकास ==
[[चित्र:Banjo Patterson.jpg|thumb|upright|कवि, बैंजो पैटर्सन.]]
[[चित्र:Roberts-The Australian native.jpg|thumb|upright|हीडलबर्ग स्कूल के टॉम रॉबर्ट्स द्वारा "ऑस्ट्रेलियाई मूल निवासी" (1888).]]
कुछ उपनिवेशवादियों, लेखक हेनरी लॉसन, ट्रेड यूनियनवादी विलियम लेन और जैसा कि सिडनी बुलेटिन के पृष्ठों में मिलता है, के द्वारा एक पृथक ऑस्ट्रेलिया के एक अधिक उग्र दृष्टिकोण रखने के बावजूद, सन 1899 के अंत में, और अत्यधिक औपनिवेशिक बहस के बाद, छः ऑस्ट्रेलियाई उपनिवेशों में से पांच के नागरिकों ने जनमत-संग्रहों में एक संघ के निर्माण के संविधान के समर्थन में मतदान किया था। जुलाई 1900 में [[पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया|वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया]] भी मतदान के द्वारा इनमें सम्मिलित हो गया। 5 जुलाई 1900 को “कॉमनवेल्थ ऑफ ऑस्ट्रेलिया कॉन्स्टिट्यूशन ऐक्ट (यूके)” पारित हुआ और 9 जुलाई 1900 को [[विक्टोरिया|महारानी विक्टोरिया]] द्वारा इसे शाही सहमति प्रदान की गई.<ref>आर विलिस, एट अल (1982)''इशुज़ इन ऑस्ट्रेलियन हिस्ट्री'' . पृष्ठ 160. लॉन्गमैन चेशायर. ISBN 0-582-66327-X</ref>
 
== कॉमनवेल्थ ऑफ ऑस्ट्रेलिया की स्थापना ==
[[चित्र:Opening of the first parliament.jpg|thumb|right|300px|1901 में ऑस्ट्रेलिया की पहली संसद के उद्घाटन]]
[[चित्र:EBarton2.jpg|thumb|thumb|अल्फ्रेड डीकिन, दूसरा प्रधानमंत्री के साथ ऑस्ट्रेलिया के प्रथम प्रधानमंत्री एडमंड बार्टन (बाएं).]]
सन 1890 के दशक के अंत और बीसवीं सदी के प्रारम्भ में विनाशकारी अकालों ने कुछ क्षेत्रों को महामारी से ग्रस्त बना दिया और रैबिट प्लेग के साथ मिलकर इसने ग्रामीण ऑस्ट्रेलिया में बहुत अधिक कठिन परिस्थियाँ उत्पन्न कर दीं. इसके बावजूद, अनेक लेखकों ने “एक ऐसे काल की कल्पना की, जब ऑस्ट्रेलिया संपत्ति और महत्व के संदर्भ में ब्रिटेन को भी पीछे छोड़ देगा, जब इसकी खुली-भूमि पर कई एकड़ में फैले खेत और कल-कारखाने होंगे, जिनकी तुलना संयुक्त राज्य अमरीका के साथ की जा सकेगी. कुछ लेखकों ने भावी जनसंख्या 100 मिलियन, 200 मिलियन या उससे भी अधिक हो जाने का अनुमान किया।”<ref>स्टुअर्ट मेकिंटायर (1986) पृष्ठ.198</ref> इनमें ई. जे. ब्रैडी शामिल थे, जिनकी सन 1918 में लिखी गई कियाब ''ऑस्ट्रेलिया अनलिमिटेड'' ने ऑस्ट्रेलिया की भूमि का वर्णन विकास करने और बसने के लिए तैयार हो चुकी भूमि के रूप में किया, “जिसके भाग्य में जीवन के साथ धड़कना ही लिखा था। ”<ref>स्टुअर्ट मेकिंटायर (1986) पृष्ठ.199</ref>
 
== अंतिम शिलिंग तक: प्रथम विश्व-युद्ध ==
[[चित्र:Australian 9th and 10th battalions Egypt December 1914 AWM C02588.jpeg|thumb|left|रेजिमेंट शुभंकर, के रूप में एक कंगारू के साथ मिस्र में ऑस्ट्रेलियाई सैनिक, 1914.]]
 
ह्युजेस ने मांग की नवगठित लीग ऑफ नेशन्स (League of Nations) में ऑस्ट्रेलिया को स्वतंत्र प्रतिनिधित्व प्रदान किया जाना चाहिये और वे जापानी नस्लीय समानता प्रस्ताव को सम्मिलित किये जाने के सर्वाधिक प्रमुख विरोधी थे, जो कि उनके व अन्य लोगों के द्वारा चलाये गए अभियान के कारण अंतिम संधि में शामिल नहीं किया गया, जिससे जापान बहुत अधिक नाराज़ हुआ. ह्युजेस जापान के उदय से चिंतित थे। सन 1914 में यूरोपीय युद्ध की घोषणा के कुछ महीनों के भीतर ही; जापान, ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड ने दक्षिण पश्चिमी प्रशांत में सभी जर्मन क्षेत्रों पर कब्ज़ा कर लिया. हालांकि जापान ने ब्रिटेन के आशीर्वाद से जर्मन क्षेत्रों पर कब्ज़ा किया था, लेकिन ह्युजेस इस नीति के प्रति सतर्क हो गए.<ref name="Lowe129">लोव, "ऑस्ट्रेलिया इन द वर्ल्ड", पृष्ठ.129.</ref> सन 1919 में औपनिवेशिक नेताओं के एक शांति सम्मेलन में न्यूज़ीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया ने जर्मन समोआ, जर्मन साउथ वेस्ट अफ्रीका और जर्मन न्यू गिनी के क्षेत्रों पर अपने कब्ज़े को बनाये रखने के पक्ष में तर्क प्रस्तुत किये; इन क्षेत्रों के लिए संबंधित उपनिवेशों को “क्लास सी अधिदेश (Class C Mandates)” प्रदान किये गए. एक समान-समान सौदे में, जापान ने विषुवत् के उत्तर में इसके द्वारा अधिग्रहित जर्मन क्षेत्रों पर नियंत्रण हासिल कर लिया.<ref name="Lowe129" />
 
== युद्ध के बीच के वर्ष ==
=== पुरुष, धन व बाज़ार: 1920 का दशक ===
[[चित्र:WMcWilliams.JPG|upright|150px|thumb|विलियम मैकविलियम्स, कंट्री पार्टी (राष्ट्रीय) के संस्थापक और 1920-1921 नेता.]]
 
ऑस्ट्रेलिया ने परिवहन और संचार की नई प्रौद्योगिकीयाँ अपनाईं. तटीय क्षेत्रों में चलने वाले जहाजों का स्थान अंततः भाप ने ले लिया और रेल तथा मोटर परिवहन ने कार्य व मनोरंजन में नाटकीय परिवर्तनों की शुरुआत की. सन 1918 में पूरे ऑस्ट्रेलिया में 50,000 कारें व भारवाहन थे। सन 1929 तक आते-आते इनकी संख्या बढ़कर 500,000 हो गई.<ref>आर विलिस में जोसी कासल "द 1920", एट अल (एड्स)(1982), पृष्ठ.273</ref> सन 1853 में स्थापित स्टेज कोच कम्पनी, कॉब एण्ड कं (Cobb and Co) को अंततः 1924 में बंद कर दिया गया.<ref>जैन बैसेट (1986) पृष्ठ. 56-7</ref> सन 1920 में, क्वीन्सलैंड एण्ड नॉर्दर्न टेरिटरी एरियल सर्विस (Queensland and Northern Territory Aerial Service) (जो बाद में ऑस्ट्रेलियाई एयरलाइन क्वांटास [QANTAS] बनी) की स्थापना हुई.<ref>जैन बैसेट (1986) पृष्ठ. 213</ref> सन 1928 में रेवरेंड जॉन फ्लिन ने विश्व की पहली वायु ऐम्बुलेन्स, रॉयल फ्लाइंग डॉक्टर सर्विस (Royal Flying Doctor Service) की स्थापना की.<ref>http://adbonline.anu.edu.au/biogs/A080554b.htm?hilite=john%3Bflynn</ref> दुस्साहसी पायलट, सर चार्ल्स किंग्सफोर्ड स्मिथ सन 1927 में ऑस्ट्रेलिया सर्किट का एक चक्र पूरा करते हुए तथा सन 1928 में वायुयान ''सदर्न क्रॉस'' में हवाई और फिजी होते हुए अमरीका से ऑस्ट्रेलिया तक प्रशांत महासागर का चक्कर लगाकर नई उड़ान मशीनों को सीमा से परे ले गए. आगे वे वैश्विक प्रसिद्धि तक पहुँचे और सन 1935 में सिंगापुर में एक रात्रिकालीन उड़ान के दौरान गुम होने से पहले तक उन्होंने हवाई रिकॉर्डों की एक श्रृंखला खड़ी कर दी.<ref>http://adbonline.anu.edu.au/biogs/A090602b.htm?hilite=charles%3Bkingsford%3Bsmith</ref>
 
=== उपनिवेश का दर्जा ===
[[चित्र:ImperialConference.jpg|thumb|left|200px|अपने प्रधानमंत्री के साथ किंग जॉर्ज V (सामने, बीच में). (दाएं से बाएं) स्थायी: मोनरो (न्यूफाउंडलैंड), कोट्स (न्यूजीलैंड), ब्रूस (ऑस्ट्रेलिया), हर्टजोग (दक्षिण अफ्रीका के संघ), कोसग्रेव (आयरिश मुक्त राज्य).बैठा: बाल्डविन (यूनाइटेड किंगडम), किंग जॉर्ज पंचम, किंग (कनाडा).]]
 
ग्रामीण क्षेत्रों में, सबसे बुरा प्रभाव उत्तर-पूर्वी [[विक्टोरिया (ऑस्ट्रेलिया)|विक्टोरिया]] और वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के गेहूं उत्पादक क्षेत्रों में रहने वाले छोटे किसानों पर पड़ा, जिन्होंने पाया कि उनकी अधिकांश आय ब्याज चुकाने में ही समाप्त हो गई थी.<ref>ज्योफ स्पेंसली (1981) पृष्ठ.52</ref>
 
== द्वितीय विश्व युद्ध ==
[[चित्र:Menzies Churchill WW21941.jpg|thumb|200px|left|upright|1941 में प्रधानमंत्री रॉबर्ट मेंज़िस और ब्रिटिश प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल.]]
[[चित्र:HMAS Sydney (AWM 301473).jpg|thumb|नवंबर 1941, हिंद महासागर में प्रकाश क्रूजर एचएमएएस (HMAS) सिडनी एक लड़ाई में हार गए.]]
 
=== सन 1930 के दशक में रक्षा नीति ===
सन 1930 के दशक के अंतिम भाग से पूर्व तक, रक्षा ऑस्ट्रेलियाई लोगों के लिए कोई महत्वपूर्ण मुद्दा नहीं थी. सन 1937 के चुनावों में, दोनों राजनैतिक दलों ने, [[चीन]] में बढ़ते [[जापान|जापानी]] दखल और [[यूरोप]] में [[जर्मनी]] के बढ़ते दखल के संदर्भ में, रक्षा खर्च में वृद्धि की वकालत की. हालांकि इस बात को लेकर मतभेद था कि रक्षा खर्च का आवंटन किस प्रकार किया जाए. यूएपी (UAP) सरकार ने “साम्राज्यवादी रक्षा की एक नीति” के तहत ब्रिटेन के साथ सहयोग पर ज़ोर दिया. इसका आधार सिंगापुर स्थित ब्रिटिश नौसैनिक अड्डा और रॉयल नेवी का जंगी बेड़ा था, “जिसके बारे में यह आशा की जा रही थी कि आवश्यकता के समय इसका प्रयोग किया जाएगा."<ref>जॉन रॉबर्टसन (1984) ''ऑस्ट्रेलिया गोज़ टू वॉर'' , 1939-1945. पृष्ठ.12. डबलडे, सिडनी. ISBN 0 868241555</ref> युद्ध के वर्षों के दौरान किये गए रक्षा-खर्च से यह प्राथमिकता प्रतिबिम्बित होती है। सन 1921-1936 की अवधि में आरएएन (RAN) पर कुल £40 मिलियन, ऑस्ट्रेलियाई सेना पर £20 और आरएएफ (RAAF) (तीनों सेनाओं में “सबसे युवा” जिसकी स्थापना सन 1921 में हुई थी) पर £6 मिलियन खर्च किये गए. सन 1939 में, नौसेना, जिसमें दो हेवी क्रूज़र और चार लाइट क्रूज़र शामिल थे, युद्ध के लिए सज्जित सर्वश्रेष्ठ सैन्य-दल था। <ref>रक्षा विभाग (नेवी) (1976) ''एन आउट लाइन ऑफ़ ऑस्ट्रेलियन नैवल हिस्ट्री'' . पृष्ठ 33 ऑस्ट्रेलियाई सरकार प्रकाशन सेवा, कैनबरा. ISBN 0 642 022550</ref>
 
सितंबर 1939 तक आते-आते ऑस्ट्रेलियाई सेना के नियमित सैनिकों की संख्या 3,000 हो गई.<ref>जॉन रॉबर्टसन (1984) पृष्ठ.17</ref> सन 1938 के अंत में चलाये गए एक भर्ती अभियान, इसका नेतृत्व मेजर-जनरल थॉमस ब्लेमी ने किया था, ने आरक्षित नागरिक-सेना की संख्या बढ़ाकर लगभग 80,000 कर दी.<ref>गेविन लांग) (1952) पृष्ठ 26</ref> युद्ध के लिए प्रशिक्षित पहले डिविजन को छ्ठें डिविजन और दूसरे एआईएफ (AIF) का नाम दिया गया क्योंकि प्रथम विश्व युद्ध में कागज़ पर 5 नागरिक सेना डिविजन और पहला एआईएफ (AIF) था। <ref>जॉन रॉबर्टसन (1984) पृष्ठ.20. इसी कारण द्वितीय विश्व युद्ध की ऑस्ट्रेलियन बटालियनों को प्रथम विश्व युद्ध की बटालियनों से अलग पहचान पाने के लिए उनके नामों से पहले उपसर्ग 2/ लगाया जाता था</ref>
 
=== युद्ध की घोषणा ===
 
3 सितंबर 1939 को, प्रधानमंत्री, रॉबर्ट मेन्ज़ीस, ने एक रेडियो प्रसारण के द्वारा राष्ट्र को संबोधित किया:
युद्ध के दौरान ऑस्ट्रेलिया की जनसंख्या 7 मिलियन थी, जिसेमें से लगभग 1 मिलियन पुरुषों व महिलाओं ने युद्ध-काल के छः वर्षों के दौरान सेना की किसी न किसी शाखा में अपनी सेवाएं दी. युद्ध के अंत तक, ऑस्ट्रेलियाई सेना में भर्ती हुए पुरुष व महिलाओं की कुल संख्या का योग 727,200 हो चुका था (जिनमें से 557,800 से विदेशों में अपनी सेवाएं दीं), 216,900 आरएएएफ (RAAF) में रहे और 48,900 आरएएन (RAN) में. 39,700 से अधिक लोग मारे गए या युद्ध बंदियों के रूप में उनकी मृत्यु हो गई, जिनमें से लगभग 8,000 की मृत्यु जापानियों के बंदियों के रूप में हुई.<ref>जैन बैसेट (1986) पृष्ठ.228-229. गेविन लॉन्ग (1963) ''द फाइनल कैम्पेन'' , ऑस्ट्रेलिया इन द वॉर ऑफ़ 1939-1945, सिरीज़ 1, खंड 7, पृष्ठ 622-637.ऑस्ट्रेलियाई युद्ध स्मारक, कैनबरा.</ref>
 
=== घरेलू-मोर्चा ===
[[चित्र:He's coming South.jpg|thumb|left|1942 ऑस्ट्रेलियाई प्रचार पोस्टर.ऑस्ट्रेलिया सिंगापुर के पतन के बाद इम्पीरियल जापान के आक्रमण की आशंका.]]
[[चित्र:Victory job (AWM ARTV00332).jpg|thumb|ऑस्ट्रेलियाई महिलाओं को प्रोत्साहित किया गया कि वे सैन्य सेवा की महिला शाखाओं में से एक में शामिल होकर अथवा श्रम-बल में सहभागी होकर युद्ध में अपना योगदान दें]]
ऑस्ट्रेलिया ने, वस्तुतः शून्य से, प्रत्यक्ष युद्ध उत्पादन में शामिल एक उल्लेखनीय महिला कार्य-बल का निर्माण भी कर लिया. सन 1939 से 1944 के बीच कारखानों में कार्यरत महिलाओं की संख्या 171,000 से बढ़कर 286,000 हो गई.<ref>रे विलिस एट अल (एड्स) में जॉन क्लोज़ "ऑस्ट्रेलियंस इन वॉरटाइम" (1982) पृष्ठ.211</ref> डेम एनिड लायन्स (Dame Enid Lyons), प्रधानमंत्री [[जोसेफ लियोन्स|जोसेफ लायन्स]] की विधवा, सन 1943 में हाउस ऑफ रिप्रेज़ेंटेटिव्स के लिए चुनी जाने वाली पहली महिला बनीं, जो रॉबर्ट मेन्ज़ीस की नई केन्द्रीय-दक्षिणपंथी लिबरल पार्टी ऑफ ऑस्ट्रेलिया में शामिल हो गईं, जिसकी स्थापना सन 1945 में हुई थी. उसी चुनाव में, डोरोथी टैंग्नी (Dorothy Tangney) सीनेट के लिए चुनी जाने वाली पहली महिला बनीं.
 
== युद्धोत्तर तेजी ==
[[चित्र:Portrait Menzies 1941.jpg|150px|thumb|left|सर रॉबर्ट मेंज़िस, ऑस्ट्रेलिया के लिबरल पार्टी के संस्थापक और ऑस्ट्रेलिया 1939-41 (यूएपी (UAP)) के प्रधानमंत्री और 1949-66]]
[[चित्र:QueenElizabeth InspectingSheep WaggaWagga 1954.jpg|thumb|महारानी एलिजाबेथ द्वितीय वग्गा वग्गा पर अपने 1954 रॉयल यात्रा पर भेड़ निरीक्षण किया। ऑस्ट्रेलिया के पार रॉयल पार्टी से भारी भीड़ ने मुलाकात की.]]
 
=== मेन्ज़ीस और लिबरल प्रभुत्व 1949-72 ===
राजनैतिक रूप से युद्धोत्तर काल के तुरंत बाद अधिकांशतः रॉबर्ट मेन्ज़ीस और लिबरल पार्टी ऑफ ऑस्ट्रेलिया प्रभावी रही, और उन्होंने सन 1949 में [[बेन चिफ्ली|बेन चीफली]] की लेबर सरकार को हराया, जिसका आंशिक कारण बैंको का राष्ट्रीयकरण करने का एक लेबर प्रस्ताव<ref>जैन बैसेट (1986) पृष्ठ.18</ref> तथा कोयला खदानों की एक पंगु कर देने वाली हड़ताल का समर्थन करना था, जो कि ऑस्ट्रेलियन कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में चल रही थी. मेन्ज़ीस देश के सबसे ज्यादा कार्यकाल वाले प्रधानमंत्री बन गए और ग्रामीण-आधारित कण्ट्री पार्टी के साथ गठबंधन में लिबरल पार्टी ने सन 1972 तक का प्रत्येक संघीय चुनाव जीता.
 
सन 1965 में जब मेन्ज़ीस निवृत्त हुए, तो लिबरल नेता और प्रधानमंत्री के रूप में [[हेरोल्ड होल्ट|हैरोल्ड होल्ट]] ने उनका स्थान लिया. दिसंबर 1967 में एक सर्फ-बीच (surf beach) पर तैराकी के दौरान डूब जाने से होल्ट की मृत्यु हो गई और उनके स्थान पर [[जाह्न गार्टन|जॉन गॉर्टन]] (1968–1971) और उनके बाद [[विलियम मकमहन|विलियम मैक्महोन]] (1971–1972) आए.
 
=== युद्धोपरांत आप्रवासन ===
[[चित्र:Dutch Migrant 1954 MariaScholte=50000thToAustraliaPostWW2.jpg|thumb|युद्ध के बाद 1954 में प्रवासी ऑस्ट्रेलिया में पहुँचे.]]
द्वितीय विश्व युद्ध के बाद, [[बेन चिफ्ली|चीफली]] की लेबर सरकार ने एक यूरोपीय आप्रवासन के एक व्यापक कार्यक्रम की शुरुआत की. सन 1945 में, आप्रवासी मामलों के मंत्री (Minister for Immigration), आर्थर कॉलवेल ने लिखा “यदि प्रशांत युद्ध के अनुभव ने हमें कोई एक बात सिखाई है, तो निश्चित ही वह बात ये है कि साठ लाख ऑस्ट्रेलियाई तीस लाख वर्ग मील की इस भूमि की अनंत काल तक रक्षा नहीं कर सकते.”<ref>हॉउस ऑफ़ रिप्रेसेंटेटिव हैनसर्ड, 2 अगस्त 1945, पीपी.4911-4915. आर्थर कौलवेल - आप्रवासन पर श्वेत पत्र. [http://john.curtin.edu.au/1940s/populate/index.html ]</ref> सभी राजनैतिक दलों का यह साझा निष्कर्ष था कि देश “या तो जनसंख्या वृद्धि करे या लुप्त होने को तैयार रहे (populate or perish).” कॉलवेल ने अन्य देशों से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति पर दस ब्रिटिश आप्रवासियों को प्राथमिकता देने की बात कही, हालांकि सरकार की सहायता के बावजूद ब्रिटिश आप्रवासियों की संख्या अपेक्षा से कम पड़ा गई.<ref>मीकल दुगन और जोसेफ स्वार्क (1984) ''देयर गोज़ द नेबरहूड!'' ''ऑस्ट्रेलिया माइग्रेंट एक्सपीरियंस'' पृष्ठ.138 मैकमिलन, दक्षिण मेलबर्न. ISBN 0-333-357112-4</ref> प्रस्तुतिकर्ता बैरी (Barry), मॉरिस (Maurice), रॉबिन (Robin) और एन्डी गिब (Andy Gibb), जिनका परिवार सन 1958 में ब्रिस्बेन आकर बस गया, “10 पाउंड पॉम्स (10 pound poms)” का एक विशिष्ट परिवार थे, जिन्होंने बाद में बी गीज़ (Bee Gees) पॉप ग्रुप के रूप में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त की.<ref>रोजर मैकडॉनल्ड्स (1999) ''बैरी हम्फ्रिज़ फ्लैशबैक'' पृष्ठ 5 हार्पर कॉलिन्स ऑस्ट्रेलिया. ISBN 0-7322-5825-1</ref>
मई 1958 में, मेन्ज़ीस सरकार ने आप्रवासन अधिनियम (Immigration Act) में निरंकुश रूप से शामिल की गई लिखित परीक्षा के स्थान पर एक एन्ट्री परमिट सिस्टम लागू किया, जो आर्थिक और कुशलता मापदण्डों को प्रतिबिम्बित करता था। <ref>जैन बैसेट (1986) पृष्ठ .273</ref><ref>फ्रैंक क्रोली पृष्ठ.358</ref> इसके अलावा सन 1960 के दशक में किये गए परिवर्तनों ने श्वेत ऑस्ट्रेलिया की नीति को प्रभावी रूप से समाप्त कर दिया. वैधानिक रूप से इसकी समाप्ति सन 1973 में हुई.
 
=== आर्थिक विकास और उपनगरीय जीवन ===
[[चित्र:Tumut3GeneratingStation.jpg|thumb|टुमुट 3 पावर स्टेशन विशाल स्नोवी हिमाच्छन्न पर्वत जलविद्युत योजना (1949-1974) के भाग के रूप में निर्माण किया गया था। निर्माण ऑस्ट्रेलिया के आव्रजन कार्यक्रम का विस्तार जरूरी हो गया.]]
[[चित्र:WelcomeToTelevision.jpg|thumb|सिडनी के निवासियों के लिए सन 1956 की अपनी प्रथम नियमित टेलीविजन प्रसारण सेवा की प्रस्तुति का टीसीएन-9 (TCN-9) पर पुनराभिनय करते ब्रुस जिंजेल]]
| postscript = <!--None--> }}</ref> रंगीन टीवी का प्रसारण सन 1975 में प्रारम्भ हुआ.
 
=== गठबंधन 1950-1972 ===
[[चित्र:John F. Kennedy and Harold Holt.jpg|thumb|right|1963 में ओवल ऑफिस में प्रधानमंत्री हेरोल्ड होल्ट और अमेरिका के राष्ट्रपति जॉन एफ. कैनेडी.1960 दशक तक, ब्रिटेन से महत्वपूर्ण सहयोगी के रूप में ऑस्ट्रेलियाई रक्षा नीति स्थानांतरित हो गए.]]
 
कूटनीतिज्ञ एलन रेनॉफ के अनुसार सन 1950 के दशक और 60 के दशक में ऑस्ट्रेलिया की लिबरल-कण्ट्री पार्टी सरकारों के अधीन ऑस्ट्रेलिया की विदेश नीति में साम्यवाद-विरोध प्रभावी विषय-वस्तु थी.<ref>एलन रेनौफ़ (1979) ''द फ़्राइटेंड कंट्री'' . पृष्ठ 2-3.</ref> एक अन्य पूर्व कूटनीतिज्ञ, जेफरी क्लार्क का सुझाव है कि बीस वर्षों तक ऑस्ट्रेलिया की विदेश नीति के निर्णय विशिष्ट रूप से चीन के प्रति भय के द्वारा संचालित होते रहे.<ref>ग्रेगरी क्लार्क (1967) ''इन फियर ऑफ़ चाइना'' देखें. लैंसडाउन प्रेस.</ref> एन्ज़ुस (ANZUS) सुरक्षा संधि, जिस पर सन 1951 में हस्ताक्षर किये गए थे, का मूल पुनः शस्र-सज्जित जापान के प्रति ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड के भय में निहित था। संयुक्त राज्य अमरीका, ऑस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड पर इसकी शर्तें अस्पष्ट हैं, लेकिन ऑस्ट्रेलियाई विदेश नीति की सोच पर इसका प्रभाव कई बार बहुत महत्वपूर्ण रहा.<ref>पॉल हैम में वियतनाम वॉर से ऑस्ट्रेलिया के कमिटमेंट में एंज़स के भूमिका पर चर्चा देखें (2007)''वियतनाम; द ऑस्ट्रेलियन वॉर'' . पृष्ठ 86-7 हार्पर कोलिन्स प्रकाशक, सिडनी. ISBN 9 780732 282370</ref> सीटो (SEATO) संधि, जिस पर केवल तीन वर्षों बाद ही हस्ताक्षर किये गए, ने उभरते हुए शीत युद्ध में संयुक्त राज्य अमरीका के सहयोगी के रूप में ऑस्ट्रेलिया की स्थिति स्पष्ट रूप से प्रदर्शित कर दी.
 
== वियतनाम युद्ध ==
[[चित्र:RAAF TFV (HD-SN-99-02052).jpg|thumb|left|अगस्त 1964 में दक्षिण वियतनाम में आरएएएफ (RAAF) परिवहन उड़ान वियतनाम के विमान और कार्मिक]]
 
वियतनाम में ऑस्ट्रेलिया की मौजूदगी 10 वर्षों तक रही, और विशुद्ध मानवीय लागत में, 500 से ज्यादा लोग मारे गए और 2,000 से अधिक घायल हुए. सन 1962 और 1972 के बीच ऑस्ट्रेलिया को इस युद्ध पर $218 की लागत आई.<ref name="Elkins" />
 
== 1960 के दशक के बाद उभरता आधुनिक ऑस्ट्रेलिया ==
=== कला और “नव राष्ट्रवाद” ===
[[चित्र:JohnGorton1954.JPG|thumb|left|upright|"ऑस्ट्रेलियन टू द बूटहील्स": ऑस्ट्रेलियाई सिनेमा के लिए प्रधानमंत्री जॉन गौर्टन ने सरकारी सहायता की स्थापना की.]]
[[चित्र:Sydney Opera House Night.jpg|thumb|1973 में सिडनी ओपेरा हॉउस सरकारी तौर पर खोला गया था। ]]
सन 1973 में, व्यापारी केन मायर ने टिप्पणी की; “हम यह सोचना पसंद करते हैं कि हमारी स्वयं की एक अलग शैली है। हम अपनी अनेक कमियों को पीछे छोड़ चुके हैं। ..एक समय था, जब कला में रुचि रखने वाले पुरुषों की [[मर्दानगी]] को शक की नज़रों से देखा जाता था। ”<ref>रॉबर्ट ड्रियू. "लैरिकिंस इन द असेंडेंट." ''द ऑस्ट्रेलियन.'' स्टीफन एल्मोस और कैथरीन जोन्स (1991) में 12 अप्रैल 1973 उद्धृत ''ऑस्ट्रेलियन नैशनलिज्म'' पृष्ठ 355. एंगस और रॉबर्टसन सिडनी. ISBN 0-207-16364-2</ref> सन 1973 में, इतिहास जेफरी सर्ल, अपनी 1973 की ''फ्रॉम डेज़र्ट्स द प्रोफेट्स कम (From Deserts the Prophets Come)'' में तर्क देते हैं कि विश्वविद्यालयों और स्कूलों में शैक्षणिक अध्ययन के बजाय, उस काल तक “जब ऑस्ट्रेलिया का अधिकांश महत्वपूर्ण अध्ययन सृजनात्मक व्यवहारों में प्राप्त किया जाता रहा था”,<ref>रिचर्ड व्हाइट (1981) पृष्ठ.170-171</ref> अंततः ऑस्ट्रेलिया “परिपक्व राष्ट्रवादिता (mature nationhood)” पर पहुँच चुका था। <ref>स्टीफन एल्मोस और कैथरीन जोन्स में सरले उद्धृत (1991) पृष्ठ.401</ref>
 
=== सभी ऑस्ट्रेलियावासियों के लिए नागरिक अधिकार ===
[[चित्र:Douglas & Gladys Nicholls statue.JPG|thumb|right|300px|सर डगलस निकोल्स की प्रतिमा, दक्षिण ऑस्ट्रेलिया के पूर्व राज्यपाल.]]
 
==== मूलनिवासी नागरिक ====
सन 1960 का दशक ऑस्ट्रेलियाई मूलनिवासियों के अधिकारों के लिए चलाये गए लंबे अभियानों में एक प्रमुख दशक था। सन 1959 में, ऑस्ट्रेलियाई आदिवासी नागरिक पेंशन और मातृत्व भत्तों के योग्य माने गए.{{Citation needed|date=January 2011}} सन 1962 में, रॉबर्ट मेन्ज़ीस के ''कॉमनवेल्थ इलेक्टोरल ऐक्ट (Commonwealth Electoral Act)'' में यह प्रावधान था कि सभी मूलनिवासी नागरिकों को संघीय चुनावों में नाम दर्ज करवाने और मतदान करने का अधिकार होना चाहिये (इससे पूर्व, क्वीन्सलैंड, वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया और नॉर्दर्न टेरिटरी में “राज्य के भागों” में रहने वाले मूलनिवासियों को, केवल भूतपूर्व सैनिकों के अलावा, मतदान से बाहर रखा गया था). सन 1965 में, क्वीन्सलैंड ऑस्ट्रेलियाई आदिवासी नागरिकों को राज्य के चुनावों में मतदान का अधिकार देने वाले अंतिम राज्य बना.<ref>जेफ्री बौल्टोन (1990) पृष्ठ.190</ref><ref name="ReferenceB">http://aec.gov.au/Voting/indigenous_vote/indigenous.htm</ref>
 
सन 1992 में, हाईकोर्ट ऑफ ऑस्ट्रेलिया ने मैबो के मामले में अपने निर्णय को खारिज कर दिया और घोषणा की कि ''टेरा नलिस (terra nullius)'' की पुरानी कानूनी अवधारणा अवैधानिक थी. उसी वर्ष, प्रधानमंत्री पॉल कीटिंग ने अपने रेडफर्न पार्क भाषण में कहा कि ऑस्ट्रेलियाई आदिवासी समुदायों को लगातार झेलनी पड़ रही समस्याओं के लिए यूरोपीय आप्रवासी ज़िम्मेदार थे: ‘हमने हत्याएँ कीं. हमने बच्चों को उनकी माताओं से छीन लिया. हमने भेदभाव और बहिष्कार किया। यह हमारी अज्ञानता और हमारा पूर्वाग्रह था’. सन 1999 में संसद ने सामंजस्य का एक प्रस्ताव (Motion of Reconciliation) पारित किया, जिसका मसौदा प्रधानमंत्री [[जाह्न हावर्ड|जॉन हॉवर्ड]] तथा ऑस्ट्रेलियाई आदिवासी सीनेटर एडेन रिजवे द्वारा तैयार किया गया था, जिसके अनुसार ऑस्ट्रेलियाई मूलनिवासियों के साथ किये गए दुर्व्यवहार को “हमारे राष्ट्रीय इतिहास का सबसे कलुषित अध्याय” कहा गया था। <ref>{{cite web|url=http://www.thinkingfaith.org/articles/20080221_1.htm |title=The History of Apologies Down Under [Thinking Faith – the online journal of the British Jesuits&#93; |publisher=Thinkingfaith.org |date= |accessdate=12 Oct. 2009}}</ref> सन 2008 में, प्रधानमंत्री [[कैविन रूड|केविन रुड]] ने चुरा ली गई पीढ़ियों (Stolen Generations) के सदस्यों के प्रति ऑस्ट्रेलियाई सरकार की ओर से सार्वजनिक क्षमायाचना जारी की.
 
==== महिलाएँ ====
 
मई 1974 में, कॉमनवेल्थ कोर्ट ऑफ कन्सिलिएशन एन्ड आर्बिट्रेशन (Commonwealth Court of Conciliation and Arbitration) ने महिलाओं को पूर्ण वयस्क वेतन पाने का अधिकार प्रदान किया। हालांकि विशिष्ट उद्योगों में महिलाओं की नियुक्ति का नियुक्ति का विरोध सन 1970 के दशक तक बना रहा. यूनियन आंदोलन के तत्वों की ओर से आते अवरोधों के कारण मेलबर्न में चलने वाली ट्राम के चालकों के रूप में महिलाओं की नियुक्ति सन 1975 के पूर्व तक नहीं की जा सकी और सन 1979 तक सर रेजिनाल्ड एन्सेट महिलाओं को पायलट के रूप में प्रशिक्षण दिये जाने की अनुमति प्रदान करने से इंकार करते रहे.<ref>जेफ्री बौल्टोन (1990) पृष्ठ.229</ref>
http://aec.gov.au/Elections/Australian_Electoral_History/wopa.htm</ref>
 
=== "यही समय है": व्हिटलैम और फ्रेसर ===
[[चित्र:Vincent Lingiari.jpg|thumb|150px|upright|right|गुरिंदजी समुदाय को भूमि लौटाने के प्रतीकस्वरूप विन्सेंट लिंजियारी के हाथों में रेत डालते हुए गॉफ व्हिटलैम.(1975)]]
[[चित्र:MalcolmFraserAndJimmyCarterAtPodium.gif|150px|upright|thumb|मैल्कम फ्रेजर और अमेरिका के राष्ट्रपति जिमी कार्टर (1977).]]
फ्रेसर सरकार ने लगातार दो अगले चुनाव जीते. फ्रेसर ने व्हिटलैम युग के सामाजिक सुधारों में से कुछ को जारी रखते हुए राजकोषीय नियंत्रण बढ़ाने का प्रयास किया। उनकी सरकार में प्रथम ऑस्ट्रेलियाई आदिवासी संघीय प्रतिनिधि, नेविली बॉनर को शामिल किया गया था और सन 1976 में संसद ने ऐबोरिजनल लैंड राइट्स ऐक्ट 1976 (Aboriginal Land Rights Act 1976) पारित किया, जिसने, हालांकि यह नॉर्दन टेरिटरी में सीमित था, ने कुछ पारंपरिक भूमियों को “अहस्तांतरणीय” मुक्त दर्जा प्रदान करने को स्वीकृत दी. फ्रेसर ने बहु-सांस्कृतिक प्रसारणकर्ता एसबीएस (SBS) की स्थापना की, नाव से आए वियतनामी शरणार्थियों का स्वागत किया, रंगभेद का पालन करने वाले दक्षिण अफ्रीका और रोडेशिया में अल्पमत वाले श्वेत शासन का विरोध किया तथा सोवियत विस्तारवाद का विरोध किया। हालांकि आर्थिक सुधारों के लिए किसी भी महत्वपूर्ण कार्यक्रम की शुरुआत नहीं की गई और सन 1983 तक आते-आते ऑस्ट्रेलियाई अर्थव्यवस्था मंदी की चपेट में थी, जिस पर एक भीषण सूखे का भी प्रभाव पड़ा. फ्रेसर ने “राज्य के अधिकारों” को प्रोत्साहित किया था और उनकी सरकार ने सन 1982 में तस्मानिया में फ्रैंकलिन बांध के निर्माण को रोकने के लिए कॉमनवेल्थ अधिकारों का प्रयोग करने से इंकार कर दिया.<ref>http://primeministers.naa.gov.au/primeministers/fraser/in-office.aspx</ref> सन 1977 में, एक लिबरल मंत्री, डॉन चिप ने अपनी पार्टी से अलग होकर एक नई सामाजिक उदारवादी पार्टी, ऑस्ट्रेलियन डेमोक्रेट्स, का गठन कर लिया और फ्रैंकलिन बांध के प्रस्ताव ने ऑस्ट्रेलिया में एक प्रभावी पर्यावरण आंदोलन के शुरु होने में योगदान दिया, जिसकी शाखाओं में ऑस्ट्रेलियन ग्रीन्स, एक राजनैतिक दल, जो बाद में पर्यावरणवाद और साथ ही वाम-पंथी सामाजिक व आर्थिक नीतियों के पालन के लिए [[टासमानिया|तस्मानिया]] से बाहर भी बढ़ा, शामिल थीं.<ref>http://www.abc.net.au/dimensions/dimensions_people/Transcripts/s849441.htm</ref>
 
=== आर्थिक सुधार: हॉक, कीटिंग और हॉवर्ड ===
[[चित्र:Parliament House Canberra Dusk Panorama.jpg|thumb|left|कैनबरा में नई संसद भवन 1988 में खोला गया था। ]]
 
हॉवर्ड सरकार ने सकल रूप से आप्रवासन का विस्तार किया, लेकिन नावों पर सवार होकर अनधिकृत रूप से आने वाले लोगों को हतोत्साहित करने के लिए अक्सर विवादास्पद कड़े आप्रवासन कानून भी लागू किये. हालांकि हॉवर्ड [[राष्ट्रकुल|कॉमनवेल्थ]] के साथ पारंपरिक संबंधों तथा संयुक्त राज्य अमरीका के साथ गठबंधन के प्रबल समर्थक थे, लेकिन एशिया, विशेषतः चीन, के साथ व्यापार में नाटकीय वृद्धि हुई और ऑस्ट्रेलिया ने समृद्धि के एक विस्तारित काल का आनंद उठाया. संयोग से सन 2001 की 11 सितंबर को हुए आतंकी हमलों के दौरान हॉवर्ड ही प्रधानमंत्री थे। इस घटना के बाद, सरकार ने [[अफ़ग़ानिस्तान युद्ध|अफगानिस्तान युद्ध]] (दोनों दलों के समर्थन के साथ) एवं इराक युद्ध (अन्य राजनैतिक दलों की असहमति के साथ) के लिए सैन्य टुकड़ियाँ भेजने पर प्रतिबद्धता जाहिर की.<ref name="autogenerated3" />
 
=== इक्कीसवीं सदी में ===
सन 2007 के चुनावों में लेबर पार्टी के [[कैविन रूड|केविन रूड]] ने हॉवर्ड को पराजित किया और वे जून 2010 तक प्रधानमंत्री पद पर बने रहे, जिसके बाद पार्टी के नेता के रूप में जूलिया गिलार्ड ने उनका स्थान लिया. रूड ने प्रधानमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल का प्रयोग [[क्योटो प्रोटोकॉल]] को सांकेतिक रूप से स्वीकार करने और ''खो चुकी पीढ़ियों (Stolen Generation)'' (वे ऑस्ट्रेलियाई मूलनिवासी, जिन्हें राज्य द्वारा बीसवीं सदी के प्रारम्भिक काल से लेकर सन 1960 के दशक के दौरान उनके अभिभावकों से छीन लिया गया था) के प्रति ऐतिहासिक संसदीय क्षमायाचना<ref>http://news.bbc.co.uk/2/hi/7241965.stm</ref> का नेतृत्व करने के लिए किया। मैंडरिन चीनी भाषी इस पूर्व कूटनीतिज्ञ ने जोशपूर्ण विदेश नीति भी अपनाई और ग्लोबल वॉर्मिंग का मुकाबला करने के लिए ऑस्ट्रेलियाई अर्थव्यवस्था में ''कार्बन पर मूल्य (price on carbon)'' की सबसे पहले शुरुआत की. उनके प्रधानमंत्रित्व-काल में ही सन 2007-2010 के आर्थिक संकट के शुरुआती चरण भी आए, जिनके प्रति प्रतिक्रिया देते हुए उनकी सरकार ने आर्थिक सहायता के बड़े पैकेज प्रस्तुत किये – जिनका प्रबंधन बाद में विवादास्पद साबित हुआ.<ref>http://primeministers.naa.gov.au/primeministers/rudd/in-office.aspx</ref>
 
रूड की उत्तराधिकारी, जूलिया गिलार्ड, सन 2010 में टोनी एबॉट के लिबरल-नैशनल गठबंधन के खिलाफ बहुत कम अंतर से हुई जीत, जिसके परिणामस्वरूप सन 1940 के चुनावों के बाद पहली बार ऑस्ट्रेलिया में एक त्रिशंकु संसद बनी, का नेतृत्व करते हुए ऑस्ट्रेलिया की प्रधानमंत्री चुनी जाने वाली पहली महिला बनीं.<ref name="hung">[http://www.abc.net.au/news/stories/2010/08/21/2989767.htm "वोटर्स लीव ऑस्ट्रेलिया हैंगिंग]" ''एबीसी (ABC) न्यूज'' , 21 अगस्त 2010</ref>
 
== इन्हें भी देखें ==
{{Portal|Australia}}
*ऑस्ट्रेलिया की प्रादेशिक विकास
*ऑस्ट्रेलिया में राजशाही के इतिहास
 
== संदर्भ ==
{{Reflist|colwidth=30em}}
 
== आगे पढ़ें ==
* बैमब्रिक, सुसन एड. ''द कैम्ब्रिज इनसाइक्लोपीडिया ऑफ़ ऑस्ट्रेलिया'' (1994)
* डेविसन, ग्रीम, जॉन हर्स्ट, और स्टुअर्ट मैकिनटायर, एड्स. अनेक शैक्षिक पुस्तकालयों में ''द ऑक्सफोर्ड कम्पेनियन टू ऑस्ट्रेलियन हिस्ट्री'' (2001) ऑनलाइन, [http://www.amazon.com/Oxford-Companion-Australian-History/dp/019551503X/ref=sr_1_6?ie=UTF8&amp;s=books&amp;qid=1209696680&amp;sr=8-6 एक्सर्प्ट एंड टेक्स्ट सर्च] में भी.
[[da:Australiens historie]]
[[de:Geschichte Australiens]]
[[diq:Tarixê Awıstralya]]
[[en:History of Australia]]
[[eo:Historio de Aŭstralio]]