"दक्खिनी" के अवतरणों में अंतर

44 बैट्स् नीकाले गए ,  8 वर्ष पहले
सम्पादन सारांश रहित
छो (r2.7.1) (Robot: Adding fa:زبان دکنی)
'''दक्खिनी हिंदी''' मूलतः [[हिंदी]] का ही पूर्व रूप है जिसका विकास ईसा की १४वी शती से १८बी शती तक दक्खिन के बहमनी , क़ुतुब शाही और आदिल शाही आदि राज्यों के सुल्तानों के संरक्षण मैं हुआ था। वह मूलतः [[दिल्ली]] के आस पास की हरियाणी एवं खडी बोली ही थी जिस पर ब्रज[[ब्रजभाषा]], [[अवधी,]] और [[पंजाबी]] के साथ-साथ मराठी, गुजराती तथा दक्षिण की सहवर्ती भाषाओं तेलुगु तथा कन्नड आदि का भी प्रभाव पडा था और इसने अरबी फारसी तथा तुर्की आदि के भी शब्द ग्रहण किए थेथे। .यह मुख्यत [[फारसी लिपि]] में ही लिखी जाती थी.थी। इस केइसके कवियों ने इस भाषा को मुख्यत 'हिंदवी', हिंदी और 'दक्खिनी' ही कहा था.था। इसे एक प्रकार से आधुनिक हिंदी और उर्दु की पूवगामीपूर्वगामी भाषा कहा जासकताजा हॆ.सकता है।
दक्खिनी हिन्दी--
दक्खिनी हिंदी मूलतः हिंदी का ही पूर्व रूप हे ,जिस का विकास ईसा की १४वी शती से १८बी शती तक दक्खिन के बहमनी ,क़ुतुब शाही और आदिल शाही आदि राज्यों के सुल्तानों के संरक्षण मैं हुआ था .वह
मूलतः दिल्ली के आस पास की हरियाणी एवं खडी बोली ही थी जिस पर ब्रज अवधी,और पंजाबी के साथ-साथ मराठी,गुजराती तथा दक्षिण की सहवर्ती भाषाओं तेलुगु तथा कन्नड आदि का भी प्रभाव पडा था और इसने अरबी फारसी तथा तुर्की आदि के भी शब्द ग्रहण किए थे .यह मुख्यत फारसी लिपि में ही लिखी जाती थी. इस के कवियों ने इस भाषा को मुख्यत हिंदवी हिंदी और दक्खिनी ही कहा था. इसे एक प्रकार से आधुनिक हिंदी और उर्दु की पूवगामी भाषा कहा जासकता हॆ.
डॉ. परमानंद पांचाल
 
 
== भौगोलिक वितरण ==
इस बोली पर जोग़्राफ़ीयाई अएततबार से, अलॉक़ाई ज़बानों की तासीर नज़र आती है। जैसे, रियासत आंध्र प्रदेश की उर्दू पर [[तेलुगू]] का थोड़ा असर पाया जाता है। इसी तरह महाराष्ट्र की उर्दू पर मराठी का, कर्नाटक की उर्दू पर कन्नड़ का, और ताम्मुल नाड़िदो की उर्दू पर ताम्मुल का। लेकिन मुकम्मल तौर पर जनूबी हिंद में बोली जानी वाली दक्कनी एक ख़सूसी अंदाज़ की उर्दू है, जिस में मराठी, तेलुगू ज़बानों का मेल पाया जाता है।
 
==भौगोलिक वितरण==
==जोग़्राफ़ीयाई तक़सीम==
 
इस बोली को बोलने वालों की ज़्यादाअधिकांश तर तादादसंख्या [[दक्कन]] में है। रियासत [[महाराष्ट्र]], [[कर्नाटक]], [[आंध्र प्रदेश]] और [[तमिलनाडु]] में कसीरकुछ तादादमात्रा में बोली जाती है।
 
== सन्दर्भ ==
== हवाला जात ==
* [http://216.239.59.104/search?q=cache:h7x1YLQyC3AJ:cssaame.com/issues/24_2/guha.doc+Dakhani&hl=en&ct=clnk&cd=14&gl=us Dakhani]
 
==इन्हें भी देखें==
==मज़ीद देखिऐ==
* [[हैदर आबादी उर्दू]]
* [[बनगिलौरी उर्दू]]
*[http://narendralutherarchives.blogspot.com/2006/12/charming-lingo-of-bhagnagar.html Feature on Dakhni by [[Narendra Luther]]]
*[http://bangalorenotes.com/dakhni.htm Article on the history of Dakhni in bangalorenotes.com with good references]
 
{{हिन्दी विषय}}
 
[[en:Dakhini]]