"हिन्दुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसिएशन" के अवतरणों में अंतर

छो
रोबॉट: श्रेणी:भारतीय स्वतंत्रता संग्राम को बदल रहा है
छो ("Accused_of_Kakori_Case_1925.jpg" को हटाया। इसे कॉमन्स से JuTa ने हटा दिया है। कारण: Per [[commons:Commons:Deletion requests/File:Accused of Kakori Case 19...)
छो (रोबॉट: श्रेणी:भारतीय स्वतंत्रता संग्राम को बदल रहा है)
 
'''हिन्दुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसिएशन''', जिसे संक्षेप में एच॰आर॰ए॰ भी कहा जाता था, भारत की स्वतंत्रता से पहले उत्तर भारत की एक प्रमुख क्रान्तिकारी पार्टी थी जिसका गठन [[हिन्दुस्तान]] को अंग्रेजों के शासन से मुक्त कराने के उद्देश्य से [[उत्तर प्रदेश]] तथा [[बंगाल]] के कुछ क्रान्तिकारियों द्वारा सन् १९२४ में [[कानपुर]] में किया गया था। इसकी स्थापना में [[लाला हरदयाल]] की भी महत्वपूर्ण भूमिका थी। [[काकोरी काण्ड]] के पश्चात् जब चार क्रान्तिकारियों को [[फाँसी]] दी गई और एच०आर०ए० के सोलह प्रमुख क्रान्तिकारियों को चार वर्ष से लेकर उम्रकैद की सज़ा दी गई तो यह संगठन छिन्न-भिन्न हो गया। बाद में इसे [[चन्द्रशेखर आजाद]] ने [[भगत सिंह]] के साथ मिलकर पुनर्जीवित किया और एक नया नाम दिया [[हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएशन]]। सन् १९२४ से लेकर १९३१ तक लगभग आठ वर्ष इस संगठन का पूरे [[भारतवर्ष]] में दबदबा रहा जिसके परिणामस्वरूप न केवल ब्रिटिश सरकार अपितु अंग्रेजों की साँठ-गाँठ से १८८५ में स्थापित छियालिस साल पुरानी [[कांग्रेस]] पार्टी भी अपनी मूलभूत नीतियों में परिवर्तन करने पर विवश हो गयी।
 
*[[काकोरी काण्ड]]
*[[चन्द्रशेखर आजाद]]
 
[[श्रेणी:भारतीय स्वतंत्रता संग्राम]]
{{भारतीय स्वतंत्रता संग्राम}}
 
[[श्रेणी:भारतीय स्वतंत्रतास्वतन्त्रता संग्राम]]
43,084

सम्पादन