"तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान" के अवतरणों में अंतर

सम्पादन सारांश रहित
(नया पृष्ठ: '''तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान''' (<small>उर्दू: {{Nastaliq|ur|تحریک طالبان پاکستان}}, अ...)
 
[[File:Map of FATA in Pakistan.PNG|thumb|230px|तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान [[संघ-शासित जनजातीय क्षेत्र|फ़ाटा क्षेत्र]] से शुरु हुई थी]]
'''तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान''' (<small>[[उर्दू]]: {{Nastaliq|ur|تحریک طالبان پاکستان}}, [[अंग्रेज़ी]]: Tehrik-i-Taliban Pakistan</small>), जिसे कभी-कभी सिर्फ़ '''टी-टी-पी''' (<small>TTP</small>) या '''पाकिस्तानी तालिबान''' भी कहते हैं, [[पाकिस्तान]]-[[अफ़ग़ानिस्तान]] सीमा के पास स्थित [[संघ-शासित जनजातीय क्षेत्र]] से उभरने वाले चरमपंथी उग्रवादी गुटों का एक संगठन है। यह अफ़ग़ानिस्तान की [[तालिबान]] से अलग है हालांकि उनकी विचारधाराओं से काफ़ी हद तक सहमत है। इनका ध्येय पाकिस्तान में [[शरिया]] पर आधारित एक कट्टरपंथी इस्लामी [[अमीरात]] को क़ायम करना है। इसकी स्थापना दिसंबर २००७ को हुई जब बेयतुल्लाह महसूद​ के नेतृत्व में १३ गुटों ने एक तहरीक (अभियान) में शामिल होने का निर्णय लिया।<ref name="ref10lebex">[http://books.google.com/books?id=tLrAzOpomrUC Mapping Central Asia: Indian Perceptions and Strategies], Marlène Laruelle, Sébastien Peyrouse, pp. 200, Ashgate Publishing, Ltd., 2011, ISBN 9781409409854, ''... In addition to these is the emergence of the Pakistani Taliban - the Tehrik-i-Taliban Pakistan (TTP). The TTP emerged on December 13, 2007 under the leadership of Baitullah Mehsud. It is basically an umbrella organization for various Taliban militants ...''</ref> जनवरी २०१३ में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान ने घोषणा करी कि वे [[भारत]] में भी शरिया-आधारित अमीरात चाहते हैं और वहाँ से लोकतंत्र और धर्म-निरपेक्षता ख़त्म करने के लिए लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि वे [[कश्मीर]] में सक्रीय होने के प्रयास कर रहे हैं।<ref>[http://www.thenews.com.pk/Todays-News-6-154068-As-Army-changes-its-doctrine-TTP-decides-to-target-India As Army changes its doctrine, TTP decides to target India], Amir Mir, 13 January 2013, The News International (Pakistan), Accessed: 14 January 2013, ''... the Tehrik-e-Taliban Pakistan (TTP) has announced sending its fighters to Jammu & Kashmir and wage struggle for the implementation of Shariah rule in India ...''</ref>