"मीठा नीम" के अवतरणों में अंतर

7 बैट्स् नीकाले गए ,  8 वर्ष पहले
छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
छो (Fixing error: ILLs)
छो (Bot: अंगराग परिवर्तन)
[[चित्र:Kadi Patta (Murraya koenigii) flowers & leaves at Jayanti, Duars W Picture 167.jpg|thumb|200px|right|पश्चिम बंगाल, भारत के जलपाईगुड़ी जिले में बुक्सा टाइगर रिजर्व में जयंती.]]
{{fixbunching|end}}
'''कढ़ी पत्ते का पेड़''' ''(मुराया कोएनिजी, (Murraya koenigii;'' ) ; अन्य नाम: ''बर्गेरा कोएनिजी, (Bergera koenigii), चल्कास कोएनिजी (Chalcas koenigii))'' उष्णकटिबंधीय तथा उप-उष्णकटिबंधीय प्रदेशों में पाया जाने वाला रुतासी (Rutaceae) परिवार का एक पेड़ है, जो मूलतः [[भारत]] का देशज है। अकसर रसेदार व्यंजनों में इस्तेमाल होने वाले इसके पत्तों को "कढ़ी पत्ता" कहते हैं। कुछ लोग इसे "मीठी नीम की पत्तियां" भी कहते हैं। इसके [[तमिल]] नाम का अर्थ है, 'वो पत्तियां जिनका इस्तेमाल रसेदार व्यंजनों में होता है'। [[कन्नड़]] भाषा में इसका शब्दार्थ निकलता है - "काला नीम", क्योंकि इसकी पत्तियां देखने में कड़वे नीम की पत्तियों से मिलती-जुलती हैं। लेकिन इस कढ़ी पत्ते के पेड़ का [[नीम]] के पेड़ से कोई संबंध नहीं है। असल में कढ़ी पत्ता, तेज पत्ता या तुलसी के पत्तों, जो भूमध्यसागर में मिलनेवाली ख़ुशबूदार पत्तियां हैं, से बहुत अलग है।
 
== विवरण ==
 
== उपयोग ==
दक्षिण भारत व पश्चिमी-तट के राज्यों और [[श्रीलंका|श्री लंका]] के व्यंजनों के छौंक में, खासकर रसेदार व्यंजनों में, बिलकुल तेज पत्तों की तरह, इसकी पत्तियों का उपयोग बहुत महत्त्व रखता है. साधारणतया इसे पकाने की विधि की शुरुआत में कटे प्याज़ के साथ भुना जाता है. इसका उपयोग थोरण, वड़ा, रसम और कढ़ी बनाने में भी किया जाता है. इसकी ताज़ी पत्तियां न तो खुले में, और न ही फ्रिज में ज़्यादा दिनों तक ताज़ा रहतीं हैं. वैसे ये पत्तियां सूखी हुई भी मिलती हैं पर उनमें ख़ुशबू बिलकुल नहीं के बराबर होती है.
 
''मुराया कोएनिजी (Murraya koenigii)'' की पत्तियों का आयुर्वेदिक चिकित्सा में जड़ी-बूटी के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है. इनके औषधीय गुणों में ऐंटी-डायबिटीक (anti-diabetic),<ref>{{cite journal |author=Arulselvan P, Senthilkumar GP, Sathish Kumar D, Subramanian S |title=Anti-diabetic effect of Murraya koenigii leaves on streptozotocin induced diabetic rats |journal=Pharmazie |volume=61 |issue=10 |pages=874–7 |year=2006 |month=Oct |pmid=17069429 }}</ref> ऐंटीऑक्सीडेंट (antioxidant),<ref name="pmid">{{cite journal | author = Arulselvan P, Subramanian SP | title = Beneficial effects of Murraya koenigii leaves on antioxidant defense system and ultra structural changes of pancreatic beta-cells in experimental diabetes in rats | journal = [[Chem Biol Interact]]. | volume =165 | issue = 2| pages = 155–64 | year = 2007 |month=Jan |pmid=17188670 |doi=10.1016/j.cbi.2006.10.014 | url = http://linkinghub.elsevier.com/retrieve/pii/S0009-2797(06)00342-5}}</ref> ऐंटीमाइक्रोबियल (antimicrobial), ऐंटी-इन्फ्लेमेटरी (anti-inflammatory), हिपैटोप्रोटेक्टिव (hepatoprotective), ऐंटी-हाइपरकोलेस्ट्रौलेमिक (anti-hypercholesterolemic) इत्यादि शामिल हैं.
कढ़ी पत्ता लम्बे और स्वस्थ बालों के लिए भी बहुत लाभकारी माना जाता है.{{Citation needed|date=August 2009}}
 
[[श्रेणी:जड़ी-बूटी]]
[[श्रेणी:श्रेष्ठ लेख योग्य लेख]]
[[श्रेणी:गुगल परियोजना]]
 
[[ace:Teumuruy]]
[[as:নৰসিংহ (উদ্ভিদ)]]
74,334

सम्पादन