मुख्य मेनू खोलें

बदलाव

4 बैट्स् नीकाले गए, 6 वर्ष पहले
छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
| जालपृष्ठ = [http://kerala.gov.in kerala.gov.in]
}}
'''केरल''' ([[मलयालम]]: കേരളം, केरळम्) [[भारत]] का एक [[प्रान्त]] है। इसकी राजधानी [[तिरुवनन्तपुरम]] (त्रिवेन्द्रम) है। [[मलयालम]] (മലയാളം, मलयाळम्) यहां की मुख्य भाषा है। [[हिन्दु|हिन्दुओं]] तथा मुसलमानों के अलावा यहां [[ईसाई]] भी बड़ी संख्या में रहते हैं। भारत की दक्षिण-पश्चिमी सीमा पर [[अरब सागर]] और [[सह्याद्रि]] पर्वत श्रृंखलाओं के मध्य एक खूबसूरत भूभाग स्थित है, जिसे केरल के नाम से जाना जाता है । इस राज्य का क्षेत्रफल 38863 वर्ग किलोमीटर है और यहाँ मलयालम भाषा बोली जाती है । अपनी संस्कृति और भाषा-वैशिष्ट्य के कारण पहचाने जाने वाले भारत के दक्षिण में स्थित चार राज्यों में केरल प्रमुख स्थान रखता है । इसके प्रमुख पडोसी राज्य तमिलनाडु और कर्नाटक हैं । पुदुच्चेरी (पांडिचेरि) राज्य का मय्यष़ि (माहि) नाम से जाता जाने वाला भूभाग भी केरल राज्य के अन्तर्गत स्थित है । अरब सागर में स्थित केन्द्र शासित प्रदेश लक्षद्वीप का भी भाषा और संस्कृति की दृष्टि से केरल के साथ अटूट संबन्ध है । स्वतंत्रता प्राप्ति से पूर्व केरल में राजाओं की रियासतें थीं । जुलाई 1949 में तिरुवितांकूर और कोच्चिन रियासतों को जोडकर 'तिरुकोच्चि' राज्य का गठन किया गया । उस समय मलाबार प्रदेश मद्रास राज्य (वर्तमान तमिलनाडु) का एक जिला मात्र था । नवंबर 1956 में तिरुकोच्चि के साथ मलबार को भी जोडा गया और इस तरह वर्तमान केरल की स्थापना हुई । इस प्रकार 'ऐक्य केरलम' के गठन के द्वारा इस भूभाग की जनता की दीर्घकालीन अभिलाषा पूर्ण हुई ।
<nowiki>* केरल में शिशुओं की मृत्यु दर भारत के राज्यों में सबसे कम है और स्त्रियों की संख्या पुरुषों से अधिक है (2001 की जनगणना के आधार पर) ।
* यह यूनिसेफ (UNICEF) और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा मान्यता प्राप्त विश्व का प्रथम शिशु सौहार्द राज्य (Baby Friendly State)है ।</nowiki>
पौराणिक कथाओं के अनुसार परशुराम ने अपना परशु समुद्र में फेंका जिसकी वजह से उस आकार की भूमि समुद्र से बाहर निकली और केरल अस्तित्व में आया । यहां 10वीं सदी ईसा पूर्व से मानव बसाव के प्रमाण मिले हैं।
 
केरल शब्द की व्युत्पत्ति को लेकर विद्वानों में एकमत नहीं है । कहा जाता है कि "चेर - स्थल", 'कीचड' और "अलम-प्रदेश" शब्दों के योग से चेरलम बना था, जो बाद में केरल बन गया । केरल शब्द का एक और अर्थ है : - वह भूभाग जो समुद्र से निकला हो । समुद्र और पर्वत के संगम स्थान को भी केरल कहा जाता है। प्राचीन विदेशी यायावरों ने इस स्थल को 'मलबार' नाम से भी सम्बोधित किया है । काफी लबे अरसे तक यह भूभाग चेरा राजाओं के आधीन था एवं इस कारण भी चेरलम (चेरा का राज्य) और फिर केरलम नाम पडा होगा।
 
केरल की संस्कृति हज़ारों साल पुरानी है । इसके इतिहास का प्रथम काल 1000 ईं. पूर्व से 300 ईस्वी तक माना जाता है । अधिकतर महाप्रस्तर युगीन स्मारिकाएँ पहाड़ी क्षेत्रों से प्राप्त हुई । अतः यह सिद्ध होता है कि केरल में अतिप्राचीन काल से मानव का वास था ।केरल में आवास केन्द्रों के विकास का दूसरा चरण संगमकाल माना जाता है । यही प्राचीन तमिल साहित्य के निर्माण का काल है । संगमकाल सन् 300 ई. से 800 ई तक रहा । प्राचीन केरल को इतिहासकार तमिल भूभाग का अंग समझते थे । सुविधा की दृष्टि से केरल के इतिहास को प्राचीन, मध्यकालीन एवं आधुनिक कालीन - तीन भागों में विभाजित कर सकते हैं ।
== जलवायु ==
{{main|केरल की जलवायु}}
भूमध्यरेखा से केवल 8 डिग्री की दूरी पर स्थित होने के कारण केरल में गर्म मौसम है । लेकिन वन एवं पेडपौधों एवं वर्षा की अधिकता के कारन मौसम समशीतोष्ण रहता है। यहाँ की धरती की उच्च-निम्न स्थिति भी जलवायु पर बड़ा प्रभाव डालती है । केरल की जलवायु की विशेषता है शीतल मन्द हवा और भारी वर्षा । प्रमुख वर्षाकाल इडवप्पाति अथवा पश्चिमी मानसून है । दूसरा वर्षाकाल तुलावर्षम अथवा उत्तरी-पश्चिमी मानसून है । प्रत्येक वर्ष करीब 120 से लेकर 140 दिन वर्षा होती है । औसत वार्षिक वर्षा 3017 मिली मीटर मानी जाती है । भारी वर्षा से बाढ़ें आती हैं और जन-धन की हानि भी होती है । दूसरी ओर ऐसी वर्षा के कारण केरल में पर्याप्त कृषि होती है। बिजली का मुख्य उत्पादन भी इस कारण से पनबिजली द्वारा होता है।
 
== अर्थ व्यवस्था ==
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
* [http://books.google.co.in/books?id=BxAPklDvnx4C&printsec=frontcover#v=onepage&q&f=false केरल की सांस्कृतिक विरासत] (गूगल पुस्तक ; कालीकट विश्वविद्यालय, हिन्दी विभाग)
* [http://www.keralatourism.org/hindi/ केरल पर्यटन] - यहाँ केरल के बारे में बहुत सारी जानकारी हिन्दी में दी गयी है।
* [http://www.jagran.com/yatra/inner.aspx?articleid=221&editionid=33 केरल में पर्यटन - जागरण]
 
{{केरल}}
74,334

सम्पादन