"गोपाल कृष्ण गोखले" के अवतरणों में अंतर

छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
छो (r2.7.3rc2) (Robot: Adding no:Gopal Krishna Gokhale)
छो (Bot: अंगराग परिवर्तन)
'''गोपाल कृष्ण गोखले''' (9 मई, 1866 - फरवरी 19, 1915) [[भारत]] एक स्वतंत्रता सेनानी, समाजसेवी, विचारक एवं सुधारक थे। [[महादेव गोविंद रानाडे]] के शिष्य गोपाल कृष्ण गोखले को वित्तीय मामलों की अद्वितीय समझ और उस पर अधिकारपूर्वक बहस करने की क्षमता से उन्हें भारत का '[[ग्लेडस्टोन]]' कहा जाता है। वे [[भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस]] में सबसे प्रसिद्ध नरमपंथी थे। चरित्र निर्माण की आवश्यकता से पूर्णत: सहमत होकर उन्होंने 1905 में [[सर्वेन्ट्स ऑफ इंडिया सोसायटी]] की स्थापना की ताकि नौजवानों को सार्वजनिक जीवन के लिए प्रशिक्षित किया जा सके। उनका मानना था कि वैज्ञानिक और तकनीकी शिक्षा भारत की महत्वपूर्ण आवश्यकता है। स्व-सरकार व्यक्ति की औसत चारित्रिक दृढ़ता और व्यक्तियों की क्षमता पर निर्भर करती है। [[महात्मा गांधी]] उन्हें अपना राजनीतिक गुरु मानते थे।
 
== परिचय ==
गोपालकृष्ण गोखले का जन्म [[रत्‍‌नागिरि]] कोटलुक ग्राम में एक सामान्य परिवार में कृष्णराव के घर 9 मई 1866 को हुआ। पिता के असामयिक निधन ने गोपालकृष्ण को बचपन से ही सहिष्णु और कर्मठ बना दिया था। देश की पराधीनता गोपालकृष्ण को कचोटती रहती। राष्ट्रभक्ति की अजस्त्र धारा का प्रवाह उनके अंतर्मन में सदैव बहता रहता। इसी कारण वे सच्ची लगन, निष्ठा और कर्तव्यपरायणता की त्रिधारा के वशीभूत होकर कार्य करते और देश की पराधीनता से मुक्ति के प्रयत्न में लगे रहते। न्यू इंग्लिश स्कूल पुणे में अध्यापन करते हुए गोखले जी बालगंगाधर तिलक के संपर्क में आए।
 
74,334

सम्पादन