"तृतीया" के अवतरणों में अंतर

2 बैट्स् जोड़े गए ,  8 वर्ष पहले
छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
छो (r2.7.3) (रोबोटने अन्य भाषाएँ बढाई: mr:तृतीया)
छो (Bot: अंगराग परिवर्तन)
{{स्रोतहीन|date=नवम्बर 2012}}
हिंदू [[पंचांग]] की तीसरी [[तिथि]] को पंचमी कहते हैं। यह तिथि [[मास]] में दो बार आती है। [[पूर्णिमा]] के बाद और [[अमावस्या]] के बाद। पूर्णिमा के बाद आने वाली तृतीया को [[कृष्ण पक्ष]] की तृतीया और अमावस्या के बाद आने वाली तृतीया को [[शुक्ल पक्ष]] की तृतीया कहते हैं।
== सन्दर्भ ==
{{टिप्पणीसूची}}
{{हिन्दू काल गणना}}
74,334

सम्पादन