"दबंग" के अवतरणों में अंतर

43 बैट्स् जोड़े गए ,  7 वर्ष पहले
छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
छो (r2.7.3) (Robot: Adding ml:ദബാംഗ്)
छो (Bot: अंगराग परिवर्तन)
| caption = फ़िल्म का पोस्टर
| director = अभिनव कश्यप
| producer = [[अरबाज़ खान]]<br />[[मलाइका अरोरा खान]]<br />धिल्लिन मेहता
| writer = दिलीप शुक्ला<br />अभिनव सिंह कश्यप
| starring = सलमान खान<br />अरबाज़ खान<br />[[सोनाक्षी सिन्हा]]<br />[[सोनू सूद]]<br />[[विनोद खन्ना]]<br />[[डिम्पल कपाडिया]]<br />[[अनुपम खेर]]
| music = साजिद-वाजिद<br />[[ललित पंडित]]
| cinematography = महेश लिमये
| editing = प्रणव वि. धीवर
| released = {{Film date|2010|9|10}}
| distributor = श्री अष्टविनायक सिने विज़न<br />अरबाज़ खान प्रोडक्शंस
| runtime = 125 मिनट<ref>{{cite web|title="Lots of people are declaring Dabangg as huge hit already" - Arbaaz Khan|url=http://www.bollywoodhungama.com/features/2010/09/07/6624/index.html|publisher=Bollywood Hungama|accessdate=1 November 2010}}</ref>
| country = {{Film India}}
फ़िल्म ने रिलीज़ के बाद कई रिकोर्ड तोड़े और इसे कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया जिनमे सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म के लिए फ़िल्मफेयर और राष्ट्रिय दिलम पुरस्कार शामिल है।
 
== कथानक ==
चुलबुल पांडे, एक छोटा बच्चा, अपने सौतेले भाई मखंचंद "मक्खी" पांडे, सौतेले पिता प्रजापति पांडे ([[विनोद खन्ना]]) और माँ नैना देवी ([[डिम्पल कपाडिया]]) के साथ [[उत्तर प्रदेश]] के लालगंज में रहता है। उसके सौतेले पिता हमेशा मक्खी की बाजु लेते है जिसके करण चुलबुल हमेशा गुस्सा रहता है।
 
मक्खी फैक्टरी के एक मजदुर को छोटे से हादसे की वजह से पिट देता है। मजदुर पुलिस स्टेशन जा कर मक्खी के खिलाफ़ गुन्हा दर्ज करने जाता है पर चुलबुल इसकी जगह मक्खी को सबके सामने पिटता है जिससे मक्खी की बदनामी हो जाती है। छेदी सिंह इस बात का फायदा उठा कर चुलबुल को सस्पेंड करवाने की कोशिश करता ही और मक्खी और उसके पिता को लेकर पुलिस थाने पहुँच जाता है। पर मक्खी के पिता चुलबुल के माफ़ी मांगने पर बात को रफादफा कर देते है। चुलबुल दयाल बाबु ([[अनुपम खेर]]), जो लोक मंच के अध्यक्ष है, से मिलता है जो स्वयं शेडी सिंह से नफरत करते है। फोनों मिलकर फैसला करते है की चेदी सिंह को काबू में रखेंगे। चुलबुल छेदी सिंह के शराब के ठेकों की शराब में मिलावट करवा देता है जिसकी वजह से कई लोग बीमार पड़ जाते है और सारा नाम छेदी सिंह पर आ जाता है।
 
चुलबुल से इस बात का बदला लेने के लिए छेदी मक्खी की फैक्टरी जला देता अहि जिसके चलते मक्खी के पिता को दिल का दौरा पड़ जाता है और उन्हें अस्पताल में भारती कर देते है। इस बात से अनजान की छेदी ने ही उनकी फैक्टरी जलाई है, मक्खी पिता के इलाज के पैसों के लिए छेदी सिंह का काम करने को राज़ी हो जाता है। छेदी सिंह उसे एक आमों बक्सा दयाल बाबु को देकर आने को कहता है। पर मक्खी के जाने के बाद बक्से में धमाका हो जाता है जिसमे दयाल बाबु मरे जाते है। छेदी सिंह मक्खी को चुलबुल को मरने का काम देता है। पर मक्खी चुलबुल को मार नहीं पाता और उसके पास जाकर बता देता है की छेदी सिंह ने ही बक्से में बम रखा था। चुलबुल उसे माफ कर देता है और अपने पिता से सुलह कर लेता है।
 
मक्खी छेदी को मिलता अहि जिसे लगता है की मक्खी ने चुलबुल को मर दिया है और वह उसे बताता है की उसने ही मक्खी की माँ को मारा था। छेदी सिंह को पता चलता है की चुलबुल उसे पकड़ने पुरे पुलिस फ़ौज के साथ आ रहा है। तब मक्खी छेदी को बताता है की उसने चुलबुल को नहीं मारा। आखरी लड़ाई में चुलबुल गुंडों को मार कर मक्खी को बचा लेता है और अंत में यह जान कर की छेदी ने ही उनकी माँ की हत्या की थी, उसे मार देता है।
अंत में चुलबुल मक्खी की शादी निर्मला से करवा देता है और रजो उसे बताती है वह अब माँ बनाने वाली है।
 
== पात्र ==
* सलमान खान - चुलबुल पांडे
* [[सोनाक्षी सिन्हा]] - रजो
* [[अरबाज़ खान]] - मखंचंद "मक्खी" पांडे
* [[विनोद खन्ना]] - प्रजापति पांडे
* [[डिम्पल कपाडिया]] - नैनी देवी
* [[सोनू सूद]] - छेदी सिंह
* [[महेश मांजरेकर]] - हरिया
* [[ओम पुरी]] - कस्तूरीलाल विश्कर्मा
* [[अनुपम खेर]] - दयाल बाबु
* माहि गिल - निर्मला
* टीनू आनंद - मास्टरजी
* मुरली शर्मा - एसीपी मलिक
 
== संगीत ==
 
{{Track listing
}}
{{फ़िल्म-प्रारंभिक अवस्था}}
== सन्दर्भ ==
{{reflist}}
 
== बाहरी कड़ियाँ ==
{{imdb title|1620719}}
 
74,334

सम्पादन