"धातु" के अवतरणों में अंतर

6 बैट्स् जोड़े गए ,  8 वर्ष पहले
छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
छो (Robot: Adding yo:Mẹ́tàlì)
छो (Bot: अंगराग परिवर्तन)
धातुओं की पारम्परिक परिभाषा उनके बाह्य गुणों के आधार पर दी जाती है। सामान्यतः धातु चमकीले, [[प्रत्यास्थ]], [[आघातवर्धनीय]] और सुगढ होते हैं। धातु [[उष्मा]] और [[विद्युत]] के अच्छे चालक होते हैं जबकि [[अधातु]] सामान्यतः [[भंगुर]], चमकहीन और विद्युत तथा ऊष्मा के [[कुचालक]] होते हैं।
 
== परिचय ==
रासायनिक तत्वों को सर्वप्रथम धातुओं और अधातुओं में विभाजित किया गया, यद्यपि दोनों समूहों को बिल्कुल पृथक्‌ नहीं किया जा सकता था। धातु की परिभाषा करना कठिन कार्य है। मोटे रूप से हम कह सकते हैं कि यदि किसी तत्व में निम्नलिखित संपूर्ण या कुछ गुण हों तो उसे धातु कहेंगे :
 
<references/>
 
== इन्हें भी देखें ==
* [[अधातु]]
* [[मिश्रधातु]]
 
[[श्रेणी:रसायन शास्त्र]]
74,334

सम्पादन