"नमाज़" के अवतरणों में अंतर

8 बैट्स् जोड़े गए ,  9 वर्ष पहले
छो
Bot: अंगराग परिवर्तन
छो (r2.7.3) (Robot: Adding min:Sumbayang; modifying diq:Nemac, zh:礼拜 (伊斯兰教))
छो (Bot: अंगराग परिवर्तन)
'''नामाज़''' ([[उर्दू भाषा|उर्दू]]: نماز ) या '''सलाह''' ([[अरबी भाषा|अरबी]]: صلوة)
 
== लुगवी मानी ==
नमाज़ के लुगवी मानी "दुआ" के हैं। फरमान-ए-बारी ताला है
 
[[क़ुरआन|--अल-क़ुरआन सूरत अल्लाहज़ अब:५]]}}
 
== फ़लसफ़ा-ए-नमाज़ ==
इस्लामी क़वानीन और दुस्सह तीर के मुख़्तलिफ़ और मुतअद्दिद फ़लसफ़े और अस्बाब हैं जिन की वजह से उन्हें वज़ा किया गया है। इन फ़लसफ़ों और अस्बाब तक रसाई सिर्फ वही और मादिन वही (रसूल-ओ-आल-ए-रसूल (ए)) के ज़रीया ही मुम्किन है। क़ुरआन मजीद और मासूमीन अलैहिम अस्सलाम की अहादीस में बाअज़ क़वानीन इस्लामी के बाअज़ फ़लसफ़ा और अस्बाब की तरफ़ इशारा किया गया है। उन्हें दस्तो रात में से एक नमाज़ है जो सारी इबादतों का मर्कज़, मुश्किलात और सख़्तियों में इंसान के तआदुल-ओ-तवाज़ुन की मुहाफ़िज़, मोमिन की मेराज, इंसान को बुराईयों और मुनकिरात से रोकने वाली और दूसरे आमाल की क़बूलीयत की ज़ामिन है। अल्लाह तआला इस सिलसिला में इरशाद फ़रमाते हैं:
{{Quotation|'''وَأَقِمِ الصَّلَاةَ لِذِكْرِي'''<br /> <br />
{{Quotation|नमाज़ के वाजिब होने का सबब,ख़ुदावंद आलम की ख़ुदाई और उसकी रबूबियत का इक़रार, शिर्क की नफ़ी और इंसान का ख़ुदावंद आलम की बारगाह में ख़ुशू-ओ-ख़ुज़ू के साथ खड़ा होना है। नमाज़ गुनाहों का एतराफ़ और गुज़शता गुनाहों से तलब अफ़व और तौबा है। सजदा, ख़ुदावंद आलम की ताज़ीम-ओ-तकरीम के लिए ख़ाक पर चेहरा रखना है}}
नमाज़ सबब बनती है कि इंसान हमेशा ख़ुदा की याद में रहे और उसे भूले नहीं ,नाफ़रमानी और सरकशी ना करे । ख़ुशू-ओ-ख़ुज़ू और रग़बत-ओ-शौक़ के साथ अपने दुनियावी और उखरवी हिस्सा में इज़ाफ़ा का तलबगार हो। इस के इलावा इंसान नमाज़ के ज़रीया हमेशा और हरवक़त ख़ुदा की बारगाह में हाज़िर रहे और उसकी याद से सरशार रहे। नमाज़ गुनाहों से रोकती और मुख़्तलिफ़ बुराईयों से मना करती है सजदा का फ़लसफ़ा ग़रूर-ओ-तकब्बुर, ख़ुद ख़्वाही और सरकशी को ख़ुद से दूर करना और ख़ुदाए वहिदा ला शरीक की याद में रहना और गुनाहों से दूर रहना है
=== नमाज़ अक़ल और वजदान के आईना में ===
इस्लामी हक़ के इलावा कि जो मुस्लमान इस्लाम की वजह से एक दूसरे की गर्दन पर रखते हैं एक दूसरा हक़ भी है जिस को इंसानी हक़ खा जाता है जो इंसानियत की बिना पर एक दूसरे की गर्दन पर है। उन्हें इंसानी हुक़ूक़ में से एक हक़, दूसरों की मुहब्बत और नेकियों और एहसान का शुक्रिया अदा करना है अगरचे मुस्लमान ना हूँ। दूसरों के एहसानात और नेकियां हमारे ऊपर शुक्र यए की ज़िम्मेदारी को आइद करती हैं और ये हक़ तमाम ज़बानों, ज़ातों, मिल्लतों और मुल्कों में यकसाँ और मुसावी है। लुतफ़ और नेकी जितनी ज़्यादा और नेकी करने वाला जितना अज़ीम-ओ-बुज़ुर्ग हो शुक्र भी इतना ही ज़्यादा और बेहतर होना चाहिए।
क्या ख़ुदा से ज़्यादा कोई और हमारे ऊपर हक़ रखता है? नहीं । इस लिए कि इस की नेअमतें हमारे ओपरबे शुमार हैं और ख़ुद इस का वजूद भी अज़ीम और फ़य्याज़ है। ख़ुदावंद आलम ने हम को एक ज़र्रे से तख़लीक़ किया और जो चीज़ भी हमारी ज़रूरीयात-ए-ज़िंदगी में से थी जैसे, नूर-ओ-रोशनी, हरारत, मकान, हुआ, पानी, आज़ा-ओ-जवारेह, गुरावज़-ओ-कवाय नफ़सानी, वसीअ-ओ-अरीज़ कायनात, पौदे-ओ-नबातात, हैवानात, अक़ल-ओ-होश और आतफ़ा-ओ-मुहब्बत वग़ैरा को हमारे लिए फ़राहम किया।
नमाज़ ख़ुदा की शुक्रगुज़ारी है और साहिब वजदान इंसान नमाज़ के वाजिब होने को दृक् करता है। जब एक कुत्ते को एक हड्डी के बदले में जो उसको दी जाती है हक़शनासी करता है और दुम हिलाता है और अगर चोर या अजनबी आदमी घर में दाख़िल होता है तो इस पर हमला करता है तो अगर इंसान परवरदिगार की इन तमाम नेअमतों से लापरवाह और बे तवज्जा हो और शुक्र गुज़ारी के जज़बा से जो कि नमाज़ की सूरत में जलवागर होता है बेबहरा हो तो क्या ऐसा इंसान क़दरदानी और हक़शनासी में कुत्ते से पस्त और कमतर नहीं है।
 
== सन्दर्भ ==
{{टिप्पणीसूची}}
 
74,334

सम्पादन